भंडरा (लोहरदगा) : केंद्र व राज्य सरकार द्वारा चार वर्षों में किए गए विकास की योजनाओं तथा जनकल्याण के सभी कार्यक्रमों को आम जनता तक पहुंचाने और लाभुकों से डायरेक्ट फिडबैक लेने के उद्देश्य से भाजपा अजजा मोर्चा ने सोमवार को भंडरा से ग्राम संपर्क अभियान का शुभारंभ किया। इसके तहत भंडरा प्रखंड के पझरी गांव में बीरेंद्र उरांव की अध्यक्षता में बैठक भी हुई। इसमें भाजपा अनुसूचित जनजाति मोर्चा के प्रदेश महामंत्री ¨बदेश्वर उरांव ने लोगों के बीच केंद्र व राज्य सरकार की योजनाओं के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि भाजपा अजजा मोर्चा द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में अलग-अलग प्रभारियों के नेतृत्त्व में चरणबद्ध तरीके से अभियान को मूर्त रूप दिया जाना है। उन्होंने कहा कि केंद्र व राज्य सरकार की योजना लेने से अबतक वंचित जरूरतमंद को योजनाओं का लाभ दिलाकर जनमानस के जीवन सुलभ कराने की दिशा में काम करना है। ¨बदेश्वर उरांव ने कहा कि भ्रष्टाचारमुक्त प्रशासन मोदी सरकार की सबसे बड़ी उपलब्धि है। मोदी सरकार पर आजतक भ्रष्टाचार के दाग नहीं लगे हैं। प्रधानमंत्री मोदी के नेतृत्व में देश को नई दिशा मिली। भारत को सशक्त करने के लिए कई महत्वकांक्षी योजनाओं को धरातल पर उतारने का काम किया गया। चार वर्षों में करोड़ों लोगों का जीवन में सुलभता, खुशहाली, समृद्धि लौटी है और तंगहाली दूर हुई है। उन्होंने कहा कि आवास योजना के तहत 21.65 लाख मकान स्वीकृत किए जा चुके हैं, जिनका काम युद्ध स्तर पर चल रहा है। दीन दयाल उपाध्याय ग्राम ज्योति योजना के तहत देश के पांच लाख, 97 हजार, 464 गांवों में से पांच लाख, 91 हजार, 581 गांवों में बिजली पहुंचा दी गई है। ग्रामीण इलाके तक बिजली पहुंचाने के लिए सरकार 75 हजार 600 करोड़ रुपए खर्च कर रही है।

आजादी के बाद से अबतक देश में गरीब परिवारों को बैंकों से दूर रखा गया था, लेकिन प्रधानमंत्री मोदी ने इस अन्याय को मिटाने का काम प्रधानमंत्री जनधन योजना से किया है। प्रधानमंत्री जनधन योजना के तहत गरीब परिवार को बैंकों में मुफ्त में खाता खोलने का मौका दिया। इस स्कीम के तहत अबतक करीब 29 करोड़ नए खाताधारक बैं¨कग सिस्टम में जुड़े हैं, जिन्होंने इससे पहले कभी बैंक का मुंह तक नहीं देखा था। ये योजना जहां एक तरफ गरीबों को सशक्त करने का काम कर रही है, वहीं डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर से भ्रष्टाचार पर अंकुश लगा है। इन खातों में आज लगभग 65 हजार करोड़ रुपये जमा हैं, जो पहले किसी सरकार ने नहीं की। मौके पर गीता उरांव, जलेश्वर महतो, भुलन राम, बिरबल उरांव, प्रामोद उरांव, धरमू उरांव, जीतराम उरांव, सुकरा उरांव, राजेन्द्र उरांव, सीतामुनी देवी आदि के साथ पझरी, वकील अम्बवा, नौड़ीहा, मकुन्दा, बिट्पी आदि गांव के महिला-पुरुष उपस्थित थे।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस