जागरण संवाददाता, लातेहार : चंदवा थाना क्षेत्र के लुकुइया गांव में शुक्रवार की रात नक्सली हमले में चार जवानों के शहीद से आहत डीजीपी कमल नयन चौबे सहित तमाम पुलिस अधिकारी शनिवार की सुबह लातेहार पुलिस लाइन पहुंचे और जवानों को श्रद्धांजलि दी।

श्रद्धांजलि देने के बाद डीजीपी कमल नयन चौबे ने पत्रकारों से कहा कि लातेहार जिला हमेशा से संवेदनशील रहा है। विधानसभा चुनाव को लेकर हमारी पेट्रोलिंग पार्टी सड़क पर थी, जिसपर नक्सलियों ने घात लगाकर हमला कर दिया। इसमें एक एसआइ व तीन होमगार्ड के जवान शहीद हो गए हैं। उन्होंने कहा कि हमला करने वाले की पहचान हो गई है। पुलिस ने दिन और तिथि निर्धारित नहीं की है लेकिन शहीद हुए जवानों का बदला पुलिस जरूर लेगी। उन्होंने कहा कि नक्सल विरोधी अभियान क्षेत्र में चलता ही रहेगा। झारखंड में नक्सलवाद अंतिम सांसें गिन रहा है और हम इसे खत्म करके ही दम लेंगे। उन्होंने कहा कि विधानसभा चुनाव को लेकर कलस्टर स्तर पर पुलिस की तैनाती की गई है। उन्होंने कहा कि शहीद जवानों को सरकार की ओर से हर सुविधा उपलब्ध कराएगी। जवानों के पार्थिव शरीर को उनके पैतृक गांव भेज दिया गया। पुलिस हर पल शहीदों के परिजनों के साथ खड़ी रहेगी।

ये जवान हुए शहीद :

चंदवा थाना क्षेत्र के लुकुइया गांव में शुक्रवार की रात पुलिस और नक्सलियों के बीच हुए मुठभेड़ में चार जवान शहीद हो गए। जिसमें घाघरा गुमला निवासी (एसआइ) सुकरा उरांव, होशिर लातेहार निवासी (होमगार्ड जवान) सिकंद्र सिंह, पल्हेया मनिका निवासी (होमगार्ड जवान) शंभू प्रसाद व जमूने पलामू निवासी (होमगार्ड जवान) यमुना प्रसाद का नाम शामिल है।

हेलीकॉप्टर से लातेहार पहुंचे डीजीपी : चंदवा थाना क्षेत्र के लुकुइया गांव में शुक्रवार की रात पुलिस पर नक्सली हमले की सूचना पर डीजीपी कमल नयन चौबे शनिवार को हेलीकॉप्टर से लातेहार पहुंचे और शहीद जवानों को सलामी दी। शहीदों के पार्थिव शरीर को डीजीपी ने दिया कंधा :

पुलिस लाइन लातेहार में श्रद्धांजलि देने के बाद डीजीपी कमल नयन चौबे ने शहीद हुए जवानों के पार्थिव शरीर को कंधा दिया। इसके बाद शहीद जवानों का पार्थिव शरीर पैतृक गांव भेज दिया गया। डीजीपी कमल नयन चौबे ने शहीद जवानों के परिजनों से मिले और उन्हें सांत्वना दिया। शहीद जवानों के परिजन डीजीपी से लिपट कर रोने लगे। डीजीपी ने उन्हें सांत्वना देते हुए कहा कि आप घबराए नहीं, आपकी हरसंभव सहायता की जाएगी। शहीदों की शहादत का बदला लिया जाएगा।

पुलिस एसोसिएशन ने एसआइ के परिजनों को दी सहायता राशि :

चार पुलिस कमियों के शहीद होने पर पुलिस एसोसिएशन के सदस्यों ने घाघरा गुमला निवासी (एसआइ) सुकरा उरांव के परिवार को अंतिम संस्कार के लिए दस हजार रूपये की सहायता राशि दी। मेडिकल टीम ने किया शहीदों का पोस्टमार्टम :

शहीदों के लिए डीसी के निर्देश पर सीएस ने चिकित्सकों की टीम गठित कर पोस्टमार्टम कराया। जिसमें तीन ही जवानों का पोस्टमार्टम लातेहार सदर अस्पताल में किया गया। इस टीम में डॉ. सुरेंद्र सिंह, डॉ. जमील अहमद व डॉ. सालखु चंद्र हांसदा के नाम शामिल हैं। वहीं एक जवान का पोस्टमार्टम रांची रिम्स में किया गया। श्रद्धांजलि में ये अधिकारी थे मौजूद :

पुलिस और नक्सलियों के बीच मुठभेड़ में चार जवान शहीद होने पर पुलिस लाइन में श्रद्धांजलि दी गई। जिसमें झारखंड के एडीजी एमएल मीणा, आइजी अभियान अनमोल डी होमकर, आइजी अभियान साकेत कुमार सिंह, सीआरपीएफ के आइजी संजय आनंद लाटकर, सीआरपीएफ के डीआईजी जयंत पॉल, आईजी नवीन कुमार सिंह, 11 वी बटालियन कमांडेंट विनय कुमार त्रिपाठी, 214 सीआरपीएफ बटालियन कमांडेंट ऋषिकेश सहाय, एसपी प्रशांत आनंद, डीसी जिशान कमर, एसडीएम सागर कुमार, एसडीपीओ वीरेंद्र राम, महेंद्र करमाली, थानेदार अमित कुमार गुप्ता, मोहन पांडेय समेत बड़ी संख्या में पुलिस पदाधिकारियों ने श्रद्धांजलि अर्पित की।

Posted By: Jagran

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस