बरवाडीह : वेदिक सोसाइटी, यूनिसेफ झारखंड एवं झारखंड सरकार के संयुक्त रूप से शुक्रवार को बरवाडीह प्रखंड कार्यालय के सभागार में बाल विवाह उन्मूलन को लेकर कंसल्टेशन बैठक का आयोजन किया गया। बैठक की अध्यक्षता प्रखंड प्रमुख सह प्रखंड बाल संरक्षण समिति के अध्यक्ष के द्वारा किया गया। वैदिक सोसाइटी के परियोजना समन्वयक उमेश कुमार ने कंसल्टेशन बैठक का उद्देश्यों को बताते हुए कहा कि बाल संरक्षण एक अहम मुद्दा है। जिसे समाज के द्वारा सदियों से अनदेखा और दबाया जाता रहा है। आज बाल विवाह , बाल मजदूर , बाल व्यापर, बाल यौन शोषण जैसे कूप्रथा हमारे समाज में व्याप्त है। लेकिन बच्चे देश के भविष्य के साथ साथ आज के वर्तमान है और इसलिए इनका अधिकार को सुनिश्चित करना जरूरी है। वेदिक सोसायटी प्रशिक्षण पदाधिकारी विकास कुमार ने बाल विवाह की स्थिति का जिक्र करते हुए कहा कि 37.1 प्रतिशत बाल विवाह लातेहार जिला में होती है और झारखंड देश का तीसरा राज्य है जहां बाल विवाह होती है। बाल विवाह के कई कारण सामने आए जिसमें अशिक्षा, जागरूकता में कमी, दहेज प्रथा एवं सामाजिक असुरक्षा खास है। बरवाडीह प्रखंड को बाल विवाह मुक्त बनाने के लिए सभी विभागों ने अपने स्तर पर कई योजना तैयार किए। बाल विवाह उन्मूलन के लिए पंचायतों में दीवार लेखन, होर्डिंग्स और जागरूकता रैली निकाली जाएगी। पंचायती राज विभाग ने नुक्कड़ नाटक के माध्यम से पंचायत स्तर पर लोगों को जागरूक करने की काम करेगी। इस मौके पर अजय प्रताप देव, संजय लकड़ा, लाल बिहारी ¨सह अनील कुमार शामिल थे।

Posted By: Jagran