जागरण संवाददाता, लातेहार :

जिले में 1057 विद्यालय में तीन में शौचालय नहीं है। सात में पेयजल की सुविधा नही है और 71 विद्यालयों में बिजली नहीं है। इस जानकारी पर उपायुक्त ने संबंधित पदाधिकारियों से समन्वय बनाते हुए अविलंब बिजली, पानी एवं शौचालय सुविधा विकसित करने का निर्देश दिया।

उपायुक्त अबू इमरान गुरुवार को शिक्षा विभाग की समीक्षा कर रहे थे। उन्होंने संचालित योजनाओं का लाभ बच्चों तक पहुंचाने की बात कही। निर्देश दिया कि गुणवत्तापूर्ण शिक्षा से कोई समझौता नहीं हो। बच्चों का भविष्य शिक्षको के जिम्मे है। सभी शिक्षक कर्तव्य के प्रति निष्ठावान बन बच्चों को पढ़़ाने एवं देश के भविष्य निर्माण में सहभागिता निभाएं। उपायुक्त ने आठवीं से बारहवीं कक्षा तक के पाठ्यक्रम को ससमय पूर्ण कराने की बात कही। हेरहंज में शिक्षण कार्य की गति धीमी होने पर नाराजगी जताई एवं पाठ्यक्रम ससमय पूर्ण करवाने का निर्देश दिया। बैठक में ई विद्यावाहिनी के तहत ही शिक्षकों की उपस्थिति सुनिश्चित करवाने के लिए जिला शिक्षा पदाधिकारी एवं सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को निर्देश दिया। ड्रापआउट बच्चों की भी जानकारी ली। शिशु पंजी सर्वे कार्य में लातेहार एवं चंदवा की प्रगति खराब होने पर प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को दो दिनों में सर्वे कर प्रगति रिपोर्ट जमा करने का निर्देश दिया। सभी प्रखंड शिक्षा पदाधिकारी को विद्यालय को पूर्ण तरीके से स्वच्छ बनाने का भी निर्देश दिया। बच्चों को मध्याह्न भोजन सामग्री देने, विभाग के पास भेजी गई राशि का उपयोगिता प्रमाण पत्र जमा करने के भी निर्देश दिए। मौके पर जिला शिक्षा पदाधिकारी छठु विजय सिंह समेत सभी बीईईओ, कस्तूरबा गांधी की वार्डन समेत शिक्षा विभाग के कर्मी मौजूद थे। मैट्रिक एवं इंटर की परीक्षा को लेकर किया चर्चा :

उपायुक्त ने मैट्रिक व इंटर की परीक्षा को लेकर चर्चा की। परीक्षा को लेकर बनाए जाने वाले केंद्र व बच्चों की संख्या की जानकारी ली। कोरोना संक्रमण को देखते हुए ही परीक्षा केंद्र में बच्चों को बैठने की व्यवस्था सुनिश्चित करने का निर्देश दिया। उपायुक्त ने बच्चों को परीक्षा को लेकर मानसिक परेशानी नहीं हो। बच्चों को जागरूक करने, पूरे पाठ्यक्रम की तैयारी करवाने, मार्गदर्शन को लेकर हेल्पलाइन नंबर जारी करने का भी निर्देश जिला शिक्षा पदाधिकारी को दिया।

kumbh-mela-2021

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप