लातेहार : प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश सह जिला विधिक सेवा प्राधिकार के अध्यक्ष विष्णु कांत सहाय के निर्देश पर शनिवार को व्यवहार न्यायालय के प्रांगण में लोक अदालत का आयोजन किया गया। कार्यक्रम का उद्घाटन प्रधान जिला एवं सत्र न्यायाधीश विष्णुकांत सहाय ने दीप प्रज्वलित कर किया। उन्होंने कहा कि लोक अदालत एक ऐसी अदालत है जहां दो पक्षों में किन्हीं की हार नहीं होती है। लोक अदालत के माध्यम से पुराने अनेक मामलों का निष्पादन कर दिया गया है। उन्होंने इस दौरान मध्यस्थता के बारे में जानकारियां एवं सुविधाओं के बारे में सुझाव दिए। लोक अदालत में कुल दो बेंच लगाए गए थे जिसमें 14 वादों का निष्पादन किया गया। साथ ही चार लाख 44 हजार 200 रुपए के राजस्व प्राप्त की। इस मौके पर जिला एवं अपर सत्र न्यायाधीश द्वितीय अनिल कुमार पांडेय, अपर सत्र न्यायाधीश प्रथम ऋषिकेश कुमार ने लोक अदालत के महत्व के बारे में चर्चा करते हुए जिला विधिक सेवा प्राधिकार के द्वारा दी जाने वाली सुविधाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दी। इस मौके पर राहुल कुमार,राजमणि प्रसाद , लाल अरविद नाथ शाहदेव, नवीन कुमार गुप्ता, नागेंद्र प्रसाद गुप्ता, बनवारी प्रसाद अर्चना कुमारी, मिथलेश कुमार समेत कई लोग उपस्थित थे।

Posted By: Jagran