संवाद सूत्र, झुमरीतिलैया (कोडरमा): कांग्रेस के कार्यकारी प्रदेश अध्यक्ष सह विधायक बंधु तिर्की ने फिर कहा है कि वे हर हाल में ढिबरा मजदूरों को रोजी-रोटी का अधिकार दिलाने को प्रतिबद्ध हैं। उनसे मिलने रांची गए प्रतिनिधिमंडल को उन्होंने भरोसा दिलाया कि 18 जनवरी तक इस समस्या का या तो शांतिपूर्ण हल निकलेगा अथवा पुलिस प्रशासन की ज्यादतियों के खिलाफ आंदोलन होगा। कांग्रेस के जिलाध्यक्ष मनोज सहाय पिकू तथा सामाजिक कार्यकर्ता अशोक वर्मा के नेतृत्व में ढिबरा उद्योग संघर्ष मोर्चा के प्रतिनिधिमंडल को बंधु तिर्की ने आश्वस्त किया कि वे 18 जनवरी को कोडरमा आने के पूर्व मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन से मिल कर उन्हें वस्तुस्थिति से अवगत करा कर ढिबरा मजदूरों की रोजी-रोटी के रास्ते में रुकावट बने पुलिस प्रशासन की ज्यादतियों को रोकने की मांग करेंगे। उन्होंने कहा कि सरकारी अधिकारियों से सरकार की मंशा तथा नीति के मुताबिक काम करने की अपेक्षा की जाती है। ढिबरा व्यवसाय और मजदूरों की समस्याओं को लेकर सरकार संवेदनशील है। ढिबरा को वैधानिकता प्रदान करने के लिए सरकार ढिबरा लघु खनिज नीति बना चुकी है। कुछ आवश्यक प्रक्रियाओं के पूरा होते ही इसे मंत्रिमंडल की मंजूरी मिल जाएगी। उन्होंने कहा कि भाजपा और आजसू इस मुद्दे पर अवसरवादी राजनीति कर रही है, जो कभी सफल नहीं होगी। कांग्रेस जिलाध्यक्ष मनोज सहाय पिकू ने कहा कि कांग्रेस सहित झामुमो, राजद और वामदल बंधु तिर्की के नेतृत्व में ढिबरा मजदूरों की लड़ाई को मजबूती से लड़ने को तैयार हैं। उन्होंने कहा कि 18 जनवरी को बंधु तिर्की का कोडरमा में शानदार स्वागत किया जाएगा और चंदवारा में उनकी अगवानी कर कार्यकर्ताओं के साथ जिला मुख्यालय तक लाया जाएगा।

Edited By: Jagran