जासं, खूंटी : रनिया प्रखंड के गांव बंलकेल में दो जंगली हाथियों ने किसानों के खेत में लगी फसल को अपना निवाला बनाने के साथ रौंदकर बर्बाद करने के साथ एक मकान को क्षतिग्रस्त किया। हाथियों ने घर के बाहर बांधकर रखे मवेशी को भी कुचलकर मार दिया। इस संबंध में बंलकेल के किसान जगन्नाथ मुंडा ने बताया कि रात करीब एक बजे दो हाथी गांव पहुंचे। उनके मकान के पास जंगली हाथियों ने उनके मवेशी को कुचलकर मार दिया। घटना के वक्त जगन्नाथ मुंडा अपने स्वजनों के साथ अपने घर के अंदर ही दुबके रहे। गांव के एक अन्य किसान बालकिशुन नाग के खेत पर लगे प्याज और फ्रेश बीन की फसल को भी हाथियों ने रौंदकर कर बर्बाद कर दिया। वहीं, जंगली हाथियों ने गांव के जोसेफ डहंगा के मकान को क्षतिग्रस्त कर दिया। जंगली हाथियों के गांव पहुंचने के बाद ग्रामीण दहशत में है। सुबह ग्रामीणों ने घटना की जानकारी वन विभाग को दी। इसकी सूचना मिलने के बाद वन विभाग रनिया के वन कर्मी गांव में पहुंचकर किसानों से मिलकर पूरी घटना की जानकारी ली और नुकसान का जायजा लिया। गिरगा वन क्षेत्र रनिया के वनरक्षी नितेश केसरी, मनोज सिंह और अनिल मांझी ने हाथियों के द्वारा पहुंचाए गए नुकसान की भरपाई के लिए पीड़ित किसानों को मुआवजा भुगतान का फॉर्म भरवाया। घटना के बाद मारे गए मवेशी के मालिक जगन्नाथ मुंडा ने कहा कि वन विभाग के कर्मी समय रहते जंगली हाथियों को खदेड़ कर जंगल पहुंचाए, नहीं तो ग्रामीणों को बड़ा नुकसान उठाना पड़ सकता है।

Edited By: Jagran