संवाद सूत्र, खलारी : खलारी में कोयला कारोबारी साबिर अहमद की हत्या के मामले में दूसरे समुदाय के तीन लोगों पर जानलेवा हमला किया गया और उन्हें पुलिस को सौंप दिया गया। तीनों भुक्तभोगियों में दुर्योधन गंझू, हेमंत कुमार व दुर्योधन के दामाद छोटन गंझू शामिल हैं। हमले का आरोप साबिर के परिजन पर लगा है। छोटन गंझू व उसके एक साथी से खलारी पुलिस साबिर हत्याकांड में पूछताछ के लिए पिपरवार ले गई है, जहां पूछताछ जारी है।

मारपीट की घटना पूरे क्षेत्र में फैल गई, जिसके विरोध में हिदु संगठन के लोग एकजुट हो गए और इसका विरोध करने लगे। मामले की गंभीरता को देखते हुए ग्रामीण एसपी ऋषभ झा खलारी पहुंच गए। उन्होंने हिदु संगठन के लोगों को समझा-बुझाकर शांत कराया और कहा कि दोषियों पर कानूनन कार्रवाई की जाएगी।

------------------

खलारी पुलिस को भुक्तभोगियों ने जो बताया

जानलेवा हमले के भुक्तभोगी दुर्योधन गंझू तथा हेमंत कुमार के पिता रामगोविंद सिंह ने खलारी पुलिस से लिखित शिकायत की है। दुर्योधन गंझू के अनुसार शनिवार को दोपहर करीब साढ़े बारह बजे उनकी फर्नीचर की दुकान पर नसीम अंसारी पहुंचा और गाली-गलौज व धक्का मुक्की करते उन्हें अपने घर ले गया। वहां उन्हें एक कमरे में बंद कर दिया और मोबाइल छीन लिया। उन्हें दुकान बंद करने व जान से मारने की धमकी दी। उनके घर में आए दामाद छोटन गंझू (थाना क्षेत्र के सुभाषनगर निवासी) को भी नसीम व उनके परिजन पकड़कर मारपीट किए। तीसरे भुक्तभोगी हेमंत कुमार के पिता रामगोविंद सिंह के अनुसार दोपहर करीब दो बजे उनका बेटा हेमंत घर जा रहा था कि इसी बीच नसीम व उसके परिजन उसे पकड़ लिए और मारपीट किए।

----

शंका होने पर पकड़कर पुलिस को सौंपा

साबिर के परिजन के अनुसार उनके घर के पास आरोपित मोटरसाइकिल से बार-बार आना-जाना कर रहे थे। साबिर हत्याकांड के बाद से ही परिजन सशंकित हैं। शक के आधार पर उनलोगों ने आरोपितों से पूछताछ की। पूछताछ में शक के बाद ही उन्हें पकड़ा। एक आरोपित के मोबाइल में साबिर की तस्वीर मिली। इसके बाद ही लप्पड़-थप्पड़ के बाद उन्हें पुलिस को सौंप दिया।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप