संवाद सूत्र, तोरपा : जिले के तपकरा थाना के सामने तीन लोगों की पिटाई से मृत पंकज चौधरी की बेटी का आजीवन शिक्षा पर होने वाला खर्च राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ वहन करेगा। इसके साथ ही दिवंगत पंकज चौधरी के दिव्यांग बच्चों का समुचित इलाज कराएगा। यह निर्णय बुधवार को तपकरा के हिदू समाज व अन्य सामाजिक संगठन के साथ हुई बैठक में लिया गया। तपकरा थाने से महज कुछ ही दूरी पर पंकज चौधरी की पिटाई से इलाज के दौरान हुई मृत्यु के बाद उसके परिवार के समक्ष विपत्ति का पहाड़ टूट पड़ा है। पुलिस ने हत्या के तीनों आरोपितों को गिरफ्तार कर जेल तो भेज दिया है, लेकिन दिवंगत के परिवार के समक्ष भुखमरी की स्थिति उत्पन्न हो गई है। मृतक पंकज चौधरी काफी गरीब थे और क्षेत्र में घुम-घुमकर लकड़ी का सामान बनाने का काम करते थे। उनके दो पुत्र हैं, जिनमें एक मानसिक रूप से अस्वस्थ है, जबकि एक बेटा नेत्रहीन है। एक बेटी है जो आठवीं कक्षा की छात्रा है। परिवार की स्थिति खराब होने के कारण बेटी भी शिक्षा से वंचित हो गई है। प्रशासन ने राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ एवं हिदूवादी संगठनों की मांग पर परिवार को तत्काल 20 हजार रुपये सहायता दी। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ की मांग है कि परिवार को दो लाख रुपये मुआवजा और आश्रित को नौकरी दी जाए। राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ और विश्व हिदू परिषद के सदस्यों के अलावा समाज के लोगों ने आगे आकर मृतक के परिवार को तत्काल सहायता राशि दी। राशि संघ के जिला कार्यवाह ने मृतक की पत्नी को सौंपी। मौके पर संघ के जिला कार्यवाह, विश्व हिदू परिषद के मंत्री एवं अन्य पदाधिकारी भी उनके साथ थे।

Edited By: Jagran