संवाद सूत्र, रनिया (खूंटी) : रनिया थाना क्षेत्र के जयपुर गांव में बुधवार को सड़क दुर्घटना में मृत आर्मी के जवान सुनील कंडुलना का अंतिम संस्कार किया गया। नम आंखों से ेहजारों ग्रामीण और आर्मी के जवानों ने गार्ड ऑफ ऑनर देकर उन्हें अंतिम विदाई दी। सुनील कंडुलना सोमवार को तोरपा के दियांकेल में गुप्ता नामक यात्री बस की चपेट में आकर घायल हो गए थे। दुर्घटना में उनके सिर पर गहरी चोट लगी थी। रिम्स, रांची में इलाज के दौरान उनकी मृत्यु हो गई थी। मृतक सुनील कंडुलना आर्मी के जवान थे। सिपाही पद पर उनकी बहाली 15 जुलाई 2004 को हुई थी। सुनील गरीब किसान परिवार का बेटा था। तीन भाइयों में सुनील मंझला भाई था। इसके पूर्व आर्मी जवान का पार्थिव शरीर उनके पैतृक गांव जयपुर पहुंचते ही लोगों की भीड़ सुनील की एक झलक पाने के लिए उमड़ी। आर्मी जवान के शव को उनके पैतृक आवास जयपुर ले जाया गया। इसके बाद सभा का आयोजन कर प्रचार दानियल और फादर खिस्टोफर जोजो द्वारा सुनील की आत्मा की शांति के लिए प्रार्थना की गई। अंतिम संस्कार के दौरान आर्मी जवान की पत्नी रेनू कंडुलना और दोनों बेटे प्रिस कंडुलना और प्रतीक कंडुलना सहित अंतिम संस्कार में पहुंचे मेहमान उपस्थित थे। अंतिम संस्कार के दौरान रांची के नामकुम आर्मी कैंप से पहुंचे गौरव पनवर, मन बहादुर गुरुंम, झमान सिंह पुन सहित बड़ी संख्या में आर्मी के जवान मौके पर उपस्थित थे। जवानों ने सुनील को गार्ड आफ ऑनर दिया गया। साथ ही सुनील की पत्नी रेनू को जवानों ने तिरंगा सौंपा।

----

बड़ा होकर आर्मी में जाएंगे

मृत आर्मी के जवान सुनील कंडुलना के 13 वर्षीय पुत्र प्रिस कंडुलना ने कहा कि वह पढ़-लिखकर योग्य बनने के बाद आर्मी का जवान बनेगा। आर्मी में जाकर वह देश की सेवा करेगा। 13 वर्ष की उम्र में पिता का साथ छूटने के बाद दोनों पुत्रों का रो-रोकर बुरा हाल है।

Edited By: Jagran