जागरण संवाददाता, खूंटी : जिले के उपायुक्त शशि रंजन ने मनरेगा की योजनाओं का उचित क्रियान्वयन का निर्देश दिया है, ताकि एक ही जगह पर कृषि गतिविधियों का सृजन हो सके। उन्होंने पोषण वाटिका विकसित करने के साथ ही कोल्ड स्टोरेज व पाली हाउस का निर्माण करने का निर्देश दिया है। उपायुक्त शुक्रवार को समेकित आजीविका कृषि प्रणाली से संबंधित बैठक को संबोधित कर रहे थे। बैठक में उन्होंने कर्रा प्रखंड में विकसित किए जा रहे समेकित आजीविका कृषि प्रणाली को सफल रूप प्रदान करने के लिए संचालित कार्यों की समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सभी विभाग आपसी समन्वय स्थापित कर उचित कार्ययोजना के आधार पर कार्य करें जिससे किसानों को सीधा लाभ मिल सके। उन्होंने कहा कि गो पालन, मत्स्य पालन, मुर्गीपालन, बकरीपालन, बत्तख पालन हेतु शेड का निर्माण एवं अन्य निर्माणाधीन कार्यों को सुचारू किया जाय। समेकित आजीविका फॉर्म के माध्यम से डेरी से संबंधित उत्पादों को बढ़ावा देने की पहल भी की जाएगी। पशुपालन को बढ़ावा देने के लिए विभिन्न शेड का निर्माण भी किया जा रहा है और उनके द्वारा दिए जाने वाले उत्पाद जैसे दूध, अंडा, मीट आदि के पैकेजिग की सुविधा भी मुहैया कराई जाएगी। इसके अलावा फूलों की खेती को भी बढ़ावा दिया जाएगा। बैठक में उपायुक्त ने कहा कि किसानों के लिए उचित प्रशिक्षण व संसाधन केंद्र विकसित किया जाना है। उन्होंने कहा कि उत्पादन क्षमता के साथ-साथ प्रसंस्करण पर भी विशेष रूप से कार्य किए जाएंगे। साथ ही विपणन और व्यापार पर चर्चा की गई। उपायुक्त ने कहा कि तालाबों के माध्यम से सोलर लिफ्ट सिचाई इकाई अधिष्ठापन की भी योजना बनाई गई है। इन सोलर लिफ्ट सिचाई इकाइयों के माध्यम से समेकित पार्क के सभी कोनों तक सिचाई की सुविधा सुनिश्चित की जा सकेगी। मौके पर उप विकास आयुक्त, परियोजना निदेशक आइटीडीए, जिला कृषि पदाधिकारी, जिला समाज कल्याण पदाधिकारी, जिला पशुपालन पदाधिकारी, डीपीएम जेएसएलपीएस, आत्मा निदेशक व अन्य अधिकारी व कर्मी उपस्थित थे।

Edited By: Jagran