जामताड़ा में संवाद सहयोगी, जामताड़ा : जिले में दिन प्रतिदिन दूसरे चरण के कोरोना वायरस का प्रकोप बढ़ता जा रहा है। गुरुवार को 12 घंटे के अंदर चार संक्रमित की मौत की घटना जेहन से हटी भी नहीं थी कि शुक्रवार को और दो संक्रमित की मौत हुई है।

शुक्रवार को पहली मौत जिला स्तरीय कोरोना अस्पताल में हुई। वह कटिहार निवासी थे। मृतक के रिश्तेदार स्वास्थ्य विभाग में सदर अस्पताल में स्टोर कीपर के पद पर पद स्थापित हैं। वह जामताड़ा में अपने रिश्तेदार के यहां रह रहे थे। अचानक जांच में संक्रमित पाए जाने पर उन्हें कोरोना अस्पताल वह भर्ती कराया गया था। उपचार के बाद शुक्रवार सुबह 10 बजे मरीज की स्थिति बिगड़ गई। चिकित्सक ने तत्काल वेंटिलेटर सपोर्ट दिया। लेकिन कारगर साबित नहीं हुआ और संक्रमित ने दम तोड़ दिया। रिश्तेदार की सहमति पर शव का अंतिम संस्कार दंडाधिकारी की मौजूदगी में स्वास्थ्य विभाग की कर्मियों ने जामताड़ा स्थित अजय नदी घाट में किया।

दूसरी मौत मिहिजाम निवासी की हुई। वे भाजपा के पूर्व जिला महामंत्री थे। उनकी सुबह में घर में अचानक तबीयत बिगड़ गई। 108 एंबुलेंस की माध्यम से जामताड़ा करोना अस्पताल लाया गया। जहां स्वजनों ने रेफर कराते हुए जामताड़ा ब्लॉक रोड स्थित पारस अस्पताल ले गए। जहां चिकित्सकों ने जांच के उपरांत मृत घोषित कर दिया। पुन: जामताड़ा कोरोना अस्पताल लाया गया। स्वास्थ्य विभाग अंतिम संस्कार के लिए शव को डेथ बैग में पैक करने व स्वजनों को पीपीई किट उपलब्ध कराने की तैयारी कर रहा है। शव का अंतिम संस्कार स्थानीय श्मशान घाट में किया जाएगा।

-------------

1192 नमूना की जांच,296 नए संक्रमित मिले

संवाद सहयोगी, जामताड़ा : कोरोना वायरस के प्रकोप से लोगों को बचाने के लिए प्रशासन व स्वास्थ्य विभाग जिले के शहरी तथा ग्रामीण क्षेत्र में नमूना जांच अभियान चला रहा है। शुक्रवार को जिले में 262 नमूने संग्रह किए गए। 1192 संग्रहित नमूने की जांच की गई। जांच उपरांत 296 संक्रमित मरीज की पहचान हुई है। इससे जिले में सक्रिय संक्रमित मरीज की संख्या 830 हुई। शुक्रवार को पहचान किए गए सक्रिय संक्रमित मरीजों में से बगैर लक्षण वाले मरीजों को होम आइसोलेट किया जा रहा है जबकि लक्षण वाले मरीजों को जिला स्तरीय कोरोना अस्पताल में भर्ती कराने की प्रक्रिया शुरू कर दी गई है। अस्पताल में इलाजरत नौ मरीजों की जांच रिपोर्ट निगेटिव मिली। । संक्रमण मुक्त व्यक्तियों को दवा उपलब्ध कराते हुए घर भेजा गया है।