सरकार से वार्ता के बाद शुरू हुआ खाद्यान्न का आवक

संवाद सहयोगी, जामताड़ा : गत 16 मई से बाधित खाद्यान्न आवक शुक्रवार को व्यापारिक संगठन व सरकार के बीच हुए संतोषजनक वार्ता के बाद शनिवार से खाद्यान्न आयात की शुरुआत हुई। कृषि बाजार समिति टैक्स व होल्डिंग टैक्स वापसी से संबंधित मांग पर सरकार व व्यापारिक संगठन के बीच हुई संतोषजनक वार्ता के बाद शुक्रवार की रात को जिला मुख्यालय में व्यापारियों ने जमकर आतिशबाजी की। चैंबर आफ कामर्स के जिलाध्यक्ष संजय अग्रवाल ने बताया कि व्यापारिक संगठन व सरकार के बीच वार्ता के बाद खाद्यान्न के आवक पर लगी रोक व्यापारियों ने हटाई। झारखंड सरकार के लगाए गए कृषि बाजार समिति टैक्स के विरोध में पिछले 18 अप्रैल से शुरू हुए आंदोलन को आगे बढ़ाते हुए 16 मई से पूरे झारखंड में खाद्यान्न के आवक को बंद कर दिया गया और सरकार के द्वारा चल रहे इस आंदोलन को समाप्त करने के लिए अंदर से प्रयास चल रहा था। इसी बीच झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज और सरकार के मंत्री और विधायक दल के नेता सीएलपी आलमगीर आलम और महगामा विधायक दीपिका पांडेय सिंह से वार्ता हुई और वार्ता काफी सफल हुई। वार्ता के दौरान आलमगीर आलम और दीपिका पांडेय सिंह ने फेडरेशन को पूर्ण विश्वास दिलाया कि पार्टी कृषि बाजार समिति टैक्स को दोबारा विधानसभा में नहीं लाएगी और निरस्त करने की प्रक्रिया शुरू करेगी। इस निमित फेडरेशन झारखंड चैंबर आफ कामर्स एंड इंडस्ट्रीज ने राज्य के सभी व्यापारिक संगठनों से बात की और कृषि बाजार समिति टैक्स के विरोध में चल रहे आंदोलन को स्थगित करने की घोषणा की। जामताड़ा चैंबर आफ कामर्स मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन, विधायक दल के नेता आलमगीर आलम, महगामा विधायक दीपिका पांडेय सिंह और जामताड़ा विधायक डा. इरफान अंसारी के प्रति आभार व्यक्त किया। कहा कि जनहित में झारखंड के व्यापारियों की पीड़ा को समझा और कृषि बाजार समिति टैक्स को विधानसभा में दोबारा पेश नहीं करने का आश्वासन दिया। आंदोलन स्थगित करने की घोषणा के साथ देर रात जामताड़ा के व्यापारियों ने इंदिरा चौक पहुंचकर पटाखे फोड़े और एक दूसरे से मिलकर खुशी जाहिर की। मौके पर सचिव विजय वर्णवाल, अजीत लच्छीरामका, संजय लच्छीरामका सुभाष साव, मोहन साव, रमेश बजाज, विष्णु रामका, दीपक वर्णवाल, संजय दलाल, चीकू नारोलिया, मुन्ना पोद्दार, प्रेस चौधरी, राजेश साव आदि।

Edited By: Jagran