संवाद सहयोगी, मुरलीपहाड़ी (जामताड़ा) : जूट का बोरा जमा नहीं करने वाले 24 जन वितरण प्रणाली दुकानदारों को आपूर्ति विभाग ने कारण बताओ नोटिस जारी किया है। राज्य खाद्य निगम को बोरा वापस नहीं करने के कारण शोकाज होने से लापरवाह डीलरों में खलबली मच गई है। यह पत्र प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी अख्तर हसनैन कादरी ने मंगलवार को निर्गत किया। नोटिस में कहा गया है कि जवाब नहीं देने वाले डीलरों का लाइसेंस निलंबित किया जाएगा।

बीएसओ कादरी ने पत्र के माध्यम से बताया है कि जिला आपूर्ति पदाधिकारी ने दो माह पूर्व जन वितरण प्रणाली दुकानदारों को बैठक कर जूट का बोरा राज्य खाद्य खाद्य निगम गोदाम में वापस करने का निर्देश दिया था। अप्रैल तथा मई महीने का खाली बोरा जन वितरण प्रणाली दुकानदारों को जमा करने को कहा गया था, लेकिन नारायणपुर प्रखंड के 24 जन वितरण प्रणाली दुकानदार ने आपूर्ति विभाग के निर्देश का अनुपालन करने में कोताही बरती। उन्होंने निर्देश के अनुपालन में पदाधिकारी के बात को तरजीह नहीं दी। इसे देखते हुए प्रखंड आपूर्ति पदाधिकारी ने बोरवा पंचायत के जन वितरण प्रणाली दुकानदार जुगनू एसएचजी, मुस्कान एसएचजी, चंपापुर के हरियाली एसएचजी,इम्तियाज अंसारी, उस्मान गनी, महिला जागृति केंद्र कानाडीह, दीघारी के अल्लाह राखा एसएचजी, गरीब नवाज एसएसजी, हाफिज एसएचजी, यदुपति रक्षित झिलूआ के भावेश किस्कु, मदनाडीह के बाबूमनी सिंह, मंझलाडीह के इस्लामिया एसएचजी, इलियास मियां, गरीब रथ एसएचजी, नारोडीह के हरियाली एसएचजी, हुसैन एसएचजी, जागृति एसएचजी भैयाडीह, रामकिशोर पंडित, पबिया के बदोली गढ़, बाबा बोकापहाड़ी एसएचजी, पाबिया के राकेश मुर्मू और शहरपुर पंचायत के नवाजनारी एसएचजी, जय मां काली एसएचजी पिठवाडीह को कारण बताओ नोटिस जारी करते हुए दो दिन के अंदर जवाब के साथ अपने हिस्से बोरा जमा करने का निर्देश दिया है। बीएसओ ने स्पष्ट शब्दों में लिखा है की यदि पत्र प्राप्ति के साथ जवाब और बोरा नहीं जमा हुआ तो जन वितरण प्रणाली दुकान को निलंबित करने की प्रक्रिया आरंभ की जाएगी। -चावल मिल को जूट का बोरा उपलब्ध कराने की योजना : झारखंड सरकार ने लैंपस के माध्यम से क्षेत्र के किसानों से जो धान खरीद कर मिलिग के लिए चावल मिल को उपलब्ध कराया है। वह चावल मिल में तैयार है। वहां बोरा उपलब्ध नहीं रहने के कारण चावल की आपूर्ति एफसीआइ को नहीं हो पा रही है। बोरों की कमी को दूर करने के लिए आपूर्ति विभाग ने जन वितरण प्रणाली दुकानदारों से 80 फीसदी बोरा का डिमांड किया है। इसमें बहुत से जन वितरण प्रणाली दुकानदारों ने रुचि दिखाई पर दो दर्जन जन वितरण प्रणाली दुकानदारों ने इसमें रुचि अब तक नहीं ली है।

Edited By: Jagran