-------------------

संवाद सहयोगी जामताड़ा : राज्य सरकार की ओर से घोषित स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह का पहले दिन सड़कों पर सन्नाटा पसरा रहा। मॉल बंद रहे। खुद की सुरक्षा को लेकर कई दुकानें स्वेच्छा से बंद रखी गई। खुली दुकानों में ग्राहक भी कम पहुंचे। सब्जी बाजार में भी अन्य दिनों की तरह भीड़ नहीं दिखी। पुलिस की पेट्रोलिग गाड़ियों दिन भर दौड़ती रही। बेवजह घूमने वालों पर कार्रवाई का डंडा भी चला। कई को कड़ी हिदायत दी गई। सुभाष चौक, दुमका रोड समेत कई स्थानों पर वाहन व मास्क जांच अभियान जगह-जगह चला।

दर्जनों दुकानदारों में स्वेच्छा से अपने प्रतिष्ठान को बंद रखा। कई लोगों ने सुबह शर्तों के अनुरूप दुकानें खोली लेकिन अपराह्न तीन बजते ही बंद कर दी। दवा दुकानें, हेल्थ केयर और चिकित्सा उपकरणों से जुड़ी दुकानें,जन वितरण प्रणाली की दुकान,पेट्रोल पंप, एलपीजी,फल, सब्जियों, अनाज, दूध और डेयरी प्रोडक्ट, पशु चारा, मिठाई दुकान खुली रही। पर, इन दुकानों में ग्राहकों की संख्या कम रही। होटल और रेस्टोरेंट खुले रहे। लेकिन होम डिलीवरी का कारोबार हुआ,बैठकर खाने की व्यवस्था नहीं थी।

-----------------

यात्री वाहन का अभाव

स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह के पहले दिन गुरुवार को यात्री वाहन की आवाजाही कम हुई। नतीजतन बस स्टैंड, टैक्सी स्टैंड वीरान रहे। जरूरतमंद लोग निजी वाहनों से गंतव्य तक आवाजाही किया। जामताड़ा चेंबर ऑफ कॉमर्स से प्रेरित होकर शहर दर्जनों दुकानदार ने स्वास्थ्य सुरक्षा सप्ताह अवधि में जरूरतमंद सामान को होम डिलीवरी करने का निर्णय लिया है। चैंबर ऑफ कॉमर्स के जिला अध्यक्ष संजय अग्रवाल ने बताया कि अगर घर में रहकर खाद्य पदार्थ मंगवाना है, राशन की होम डिलीवरी चाहिए तो उसके लिए नंबर जारी किया गया है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप