जामताड़ा : राज्य व जिला की सीमा सील के उपरांत पुलिस व चिकित्सक टीम की सक्रियता बढ़ गई है। सीमावर्ती क्षेत्रों में अन्य राज्यों से आवाजाही करनेवाले प्रवासियों को क्वारंटाइन केंद्र में बंद किया जा रहा है। वहीं चिकित्सक टीम संबंधित व्यक्तियों की स्क्रीनिग करने में जुटी रही। गुरुवार को आधा दर्जन चिकित्सक टीम ने जिले में करीब 260 लोगों की स्क्रीनिग की। उन्हें क्वारंटाइन केंद्र में सुरक्षित रखा गया। जामताड़ा प्रखंड में प्रभारी चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. एसके किस्कू के नेतृत्ववाली चिकित्सक टीम ने आवाजाही के क्रम में पकड़ाए प्रवासियों का स्क्रीनिग क्वारंटाइन केंद्र में पहुंचकर किया। जबकि घर में प्रवेश कर चुके प्रवासियों की स्क्रीनिग चिकित्सक टीम ने उसके घर पहुंचकर की।

मौके पर चिकित्सक टीम ने उदलबनी, सतसाल, दक्षिणबहाल समेत अन्य पंचायतों में पहुंचकर क्वारंटाइन होम में बंद व्यक्तियों के स्वास्थ्य की जानकारी ली। इसी प्रकार सदर अस्पताल के आसोलेशन वार्ड प्रभारी डॉ. दुर्गेश झा ने जामताड़ा, मिहिजाम समेत अन्य स्थानों पर स्थापित क्वारंटाइन केंद्र का जायजा लिया। डॉ. झा ने समझाया की आपका एवं परिवार सदस्यों के हित को ध्यान में रखकर आप सभी को सुरक्षित क्वारंटाइन केंद्र में रखा गया है। क्वारंटाइन में रहनेवाले सभी व्यक्ति कोरोना वायरस से ग्रसित हैं यह बात बेबुनियाद है। सभी को महामारी से सुरक्षा प्रदान करने का उद्देश्य है। क्वारंटाइन अवधि समाप्त होने पर सभी व्यक्ति अपने घर को जाएंगे।

--- सड़क व शहर में पुलिस का पहरा : लॉकडाउन सफल बनाने व कोरोना वायरस का प्रसार नियंत्रित करने को गुरुवार को भी जिला मुख्यालय शहर व ग्रामीण क्षेत्रों में पुलिस की सक्रियता देखी गई। शहर के प्रमुख स्थानों में पुलिस तैनात रही। अनुमंडल पदाधिकारी सुधीर कुमार, एसडीपीओ अरविद उपाध्याय ने जामताड़ा, मिहिजाम समेत अन्य थाना क्षेत्र का भ्रमण कर लॉक डाउन स्थिति का जायजा लिया। इसी प्रकार जिला मुख्यालय शहर में टाउन थाना प्रभारी मनोज कुमार सिंह, एसआई चंदन कुमार,सत्यम कुमार आदि ने भ्रमण कर तैनात पुलिस कर्मी एवं दुकानदार व ग्राहकों को आवश्यक दिशा निर्देश दिया।

Edited By: Jagran