जामताड़ा : लोकसभा चुनाव का बिगुल बजते ही जामताड़ा में आचार संहिता अनुपालन को ले प्रशासनिक तैयारियां भी तेज हो गई। अभी तक जिले में कहीं से कोई आचार संहिता उल्लंघन का मामला सामने नहीं आया है। ऐसी स्थिति से निपटने के लिए जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त जटाशंकर चौधरी आचार संहिता अनुपालन कराने को ले राजनीतिक दलों के साथ बैठक कर अपनी मंशा जता चुके हैं।

सरकारी कार्यालयों से हटा राजनीतिक नेताओं की तस्वीर : आचार संहिता लागू होते ही सबसे पहले उपायुक्त कार्यालय परिसर में जनसंपर्क विभाग के एलईडी पर गुंज रहे प्रधानमंत्री व मुख्यमंत्री के भाषण पर रोक लगी। इसके साथ ही जहां-जहां राजनीतिक दल के नेताओं की तस्वीर लगी थी उसे तत्काल हटा दिया। राजनीतिक दलों को चौबीस घंटे का अल्टीमेटम देकर क्षेत्र के सार्वजनिक स्थलों पर से राजनीतिक नारेबाजी, होर्डिंग, पोस्टर आदि हटाने को कहा गया, जिसे राजनीतिक दलों ने पूरा भी किया।

इधर, शिक्षकों की उपस्थिति बायोमीट्रिक मशीन पर आ रहे मुख्यमंत्री का संदेश बहरहाल जारी है। इस संबंध मे जिला शिक्षा पदाधिकारी बांके बिहारी सिंह ने बताया कि इसके लिए सॉफ्टवेयर में सुधार करना होगा। सचिव ने सुधार करने का निर्देश दिया है। उम्मीद है यह बंद हो जाएगा।

उपायुक्त ने आचार संहिता अनुपालन के लिए सिविल एसडीओ सुधीर कुमार की अध्यक्षता में आचार संहिता कोषांग बनाया है। इसके अलावा लोगों को सी-विजील एप के बारे में अधिकाधिक जानकारी देने के लिए आमजनों को जागरूक करने का निर्देश दिया है। साथ ही एमसीएमसी कोषांग का गठन कर समाचार पत्रों व टीबी, पोस्टर-बैनर पर नजर रखने निर्देश दिया है।

-----

वर्जन :

जिले में आदर्श आचार संहिता का अक्षरश: अनुपालन किया जाएगा। बहरहाल कोई भी शिकायत नहीं मिली है। आचार संहिता अनुपालन को ले कोषांग बनाया गया है। एसडीओ नोडल पदाधिकारी हैं। राजनीतिक दलों को भी आचार संहिता अनुपालन के लिए बता दिया गया है। सेक्टर मजिस्ट्रेट व पुलिस पदाधिकारियों को भी संबंधित क्षेत्र में नजर रखने का निर्देश दिया गया है। इसके अलावा सी-विजील एप की जानकारी लोगों को दी जा रही है।

- जटाशंकर चौधरी, उपायुक्त सह जिला निर्वाचन पदाधिकारी, जामताड़ा

Posted By: Jagran