संवाद सहयोगी, फतेहपुर जामताड़ा): इस बार बजट में मनरेगा में मजदूरी बढ़ाया गया है। सरकार के इस फैसले से मनरेगा मजदूरों में काफी खुशी है। मजदूरों ने जहां सरकार के इस कदम की सराहना की है वहीं दूसरी ओर सरकार से समय पर मजदूरी भुगतान करने की मांग की है। मजदूरों का कहना है कि मनरेगा में 15 दिन में भुगतान करने का प्रावधान है। लेकिन अक्सर समय पर मजदूरी का भुगतान नहीं होता है। भुगतान के लिए कभी- कभी महिनों इंतजार करना पड़ता है। फतेहपुर प्रखंड के बनुडीह पंचायत के मालडीहा सिचाई कूप में काम कर रहे मजदूरों ने बजट में मजदूरी बढ़ाने पर गुरुवार को अपनी प्रतिक्रिया दी। सरकार ने बजट में मनरेगा मजदूरों की मजदूरी दर बढ़ाई है। यह मजदूरों के हित में है। इससे सभी मजदूरों में खुशी है।

धनिया देवी,मनरेगा मजदूर,आमगाछी,बनुडीह पंचायत । सरकार ने मजदूरों की मजदूरी का 194 से बढ़ा कर 225 रुपये किया है। निश्चित रूप से इससे मजदूरों को लाभ होगा। भुगतान भी समय पर चाहिए।

लच्छो देवी, मनरेगा मजदूर, आमगाछी,बनुडीह पंचायत। वर्तमान सरकार गरीब व मजदूरों की सरकार है। मजदूरों की मजदूरी बढ़ाई गई है। इससे मजदूरों की आर्थिक स्थिति में कुछ सुधार होगा। सरकार ने बेहतर कदम उठाया है।

प्रताप सिंह,मनरेगा मजदूर,आमगाछी,बनुडीह पंचायत ।

---सरकार मजदूरों की मजदूरी दर में वृद्धि की है। इससे गरीबों को घर चलाने में सहूलियत होगी। ऐसे ही सरकार को समय पर मजदूरी भुगतान की दिशा में भी पहल करना चाहिए।

हेमंत मरांडी मनरेगा मजदूर, बानरनाचा,बानरनाचा पंचायत । मनरेगा में मजदूरी 15 दिन में भुगतान करने का प्रावधान है लेकिन ऐसा होता नहीं है। सरकार ने मजदूरी दर बढ़ाई है जो स्वागत योग्य है लेकिन समय पर भुगतान नहीं होने से परेशानी होती है। नरसिंह सिंह,मनरेगा मजदूर,आमगाछी,बनुडीह पंचायत। सरकार ने मजदूरी दर बढ़ाई है। अब समय पर भुगतान भी करवाना चाहिए। काम के बाद समय पर पैसा नहीं मिलने से कठिनाई होती है। कभी- कभी मजदूरी भुगतान के लिए महीनों इंतजार करना पड़ता है।

नीरज मुर्मू, मनरेगा मजदूर, बानरनाचा पंचायत बानरनाचा ।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप