नारायणपुर (जामताड़ा) : गुरुवार को वन क्षेत्र कार्यालय नारायणपुर में वन पर्यावरण एवं जलवायु परिवर्तन विभाग के सहयोग से जामताड़ा वन प्रमंडल की ओर से संयुक्त ग्राम वन प्रबंधन एवं संरक्षण समिति सदस्यों एवं वन कर्मियों को माइक्रोप्लान बनाने की सीख दी गई। इसमें नारायणपुर वन क्षेत्र की 24 समितियों तथा जामताड़ा वन क्षेत्र के 10 समितियों को उनके गांव एवं वनों के विकास के लिए माइक्रो प्लान तैयार करने के बारे में बताया गया।

भारतीय वन सेवा के सेवानिवृत्त अधिकारी वी. जयराम ने सदस्यों को प्रशिक्षण दिया। उन्होंने कहा कि वन समिति अध्यक्ष और सदस्यों को ही वन के गांवों और वनों के संरक्षण का माइक्रोप्लान बनाना है। पहाड़ पर वृक्ष लगाए, बीच की भूमि में चेकडैम व नीचे की भूमि पर तालाब बनाएं। इससे मृदा और जल संरक्षण होगा। उन्होंने कहा कि मृदा कटाव रोकना है। वर्षा के जल को रोककर जल का संरक्षण करना है। पहले कार्यालय में प्लान बनता था पर अब सोच बदली है। जंगल और गांव का विकास करना है। सभी को एकता के मंत्र के साथ आगे बढ़ना है। एकता में बड़ी शक्ति होती है। बताए गए तथ्यों के आधार पर 33 वन समितियों को अपने-अपने गावं, वन व समीप वाले ग्रामों का माइक्रोप्लान तैयार करना है। माइक्रोप्लान बनाने की पूरी प्रक्रिया का समापन शुक्रवार को होगा।

बताया कि 25 एवं 26 मार्च को नाला वन क्षेत्र के 31 एवं कुंडहित वन क्षेत्र के 65 वन समितियों को वनों एवं उनके ग्रामों के विकास के लिए माइक्रोप्लान बनाने का प्रशिक्षण दिया जाएगा। 13 मार्च को जामताड़ा में प्रमंडल स्तरीय प्रशिक्षण का शुभारंभ किया गया था जिसमें 130 वन समितियों को वन एवं ग्रामों के विकास के लिए माइक्रोप्लान बनाने का प्रशिक्षण दिया गया। उन्होंने कहा कि मानव जीवन के लिए वन बहुत ही आवश्यक है। इसके संव‌र्द्धन के प्रति सजग होने की आवश्यकता है। इसमें वन समितियों, वन कर्मियों एवं समाज के प्रबुद्ध लोगों की अहम भूमिका है। इस अवसर झारखंड वन बचाओ समिति बोकारो के सचिव दशरथ ठाकुर, वन प्रमंडल पदाधिकारी जामताड़ा सुशील सोरेन, नारायणपुर के वन क्षेत्र पदाधिकारी अरुण कुमार सिंह, जामताड़ा वन क्षेत्र पदाधिकारी संजीव कुमार सिंह, नाला वन क्षेत्र पदाधिकारी प्रदीप कुमार, रघुनाथपुर वन समिति के अध्यक्ष ईश्वर सोरेन, मनोज सोरेन, ताहिर अंसारी, हारून मियां, मोहम्मद सोहराब मियां, आनंद दत्ता, दिनेश हेम्ब्रम, नरेश मंडल आदि उपस्थित थे।

आज़ादी की 72वीं वर्षगाँठ पर भेजें देश भक्ति से जुड़ी कविता, शायरी, कहानी और जीतें फोन, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Jagran