जामताड़ा : अब शहर व मोहल्ला की सुंदरता बढ़ेगी। जहां-तहां कचरा व गंदगी का ढेर नहीं दिखाई देगा। इस दिशा में नपं ने पहल आरंभ कर दी है। नपं ने नगरवासियों एवे व्यवसायियों से अपील की है कि अपने घर व दुकानों में गृह निर्मित डस्टबीन रखें। डस्टबीन में घरेलू व प्रतिष्ठान का कचरा संग्रह करें। नपं से पहुंचने वाले कचरा ढ़ुलाई रिक्शा व वाहन पर उस कचड़े को डाल दें ताकि संग्रहित कचरा का सुव्यवस्थित निस्तारण किया जा सके। साथ ही यह भी प्रावधान बनाया गया है कि खुले में शौच व पेशाब के साथ आम रास्ता एवं सरकारी जमीन का अतिक्रमण करने वाले पर भी कार्रवाई होगी। इसके बाद भी खुले में या सार्वजनिक स्थल में शौच करते या फिर कचरा गिराते मिले तो वैसे लोगों से जुर्माना नपं वसूलेगी।

---इतना लगेगा जुर्माना : नपं ने संबंधित अपराध के लिए अलग-अलग जुर्माना राशि निर्धारित की है। आवासीय भवन के स्वामी खुले में कचरा फेंकेंगे तो 50 रुपये, दुकान या प्रतिष्ठान की ओ से कचरा फेंकने पर 250 रुपये, होटल संचालक को 500 रुपये, औद्योगिक प्रतिष्ठान की ओर से खुले में कचरा फेंकने पर 1500 रुपये जुर्माना भरने पड़ेंगे। इसी प्रकार अस्थायी दुकान, ठेला, खोमचा, फल, सब्जी व्यवसायी की ओर से खुले में कचरा फेंकने पर 50 रुपये, सार्वजनिक स्थल पर पेशाब करने पर 25 रुपये, खुले में शौच करने पर 500 रुपये, परिवहन के क्रम में सड़कों पर सामग्री बिखरने पर 250 रुपये, अपने आवासीय परिसर का दूषित पानी सड़क पर निकासी करने पर 1500 रुपये, सरकारी भूमि, सड़क, मकान के सामने, पालतु पशुओं के द्वारा गंदगी फैलाए जाने पर 100 रुपये एवं शादी-विवाह स्थलों के बाहर कचरा फैलाने पर 1000 रुपये जुर्माना अब संबंधित पक्ष को भरना पड़ेगा।

---------------------

सफाई जमादार व कर्मी करेंगे निगरानी : नपं के अधीन कार्यरत सफाई कर्मी जमादार, सहायक जमादार व सफाई कर्मी अपने क्षेत्रों में गंदगी फैलाने वाले व्यक्ति व स्थान को चिन्हित कर नपं कार्यालय के नगर परियोजना प्रबंधक को सूचित करेंगे। इसके उपरांत उक्त व्यक्तियों को नोटिस के जरिये जुर्माना राशि जमा करने का निर्देश दिया जायेगा।

------------------

इन क्षेत्रों में कचरों की भरमार : शहर के बस स्टैंड, ट्रेकर स्टैंड, कायस्तपाड़ा रोड, सरकार बांध व रानी बांध इलाका, घोष बांध के किनारे, गांधी मैदान के बाहर, सब्जी बाजार आदि इलाकों में अमूमन लोग कचरा फेंकते हैं। इससे आसपास का इलाका दूषित होता है। नपं के कर्मी उक्त इलाकों की सफाई करते हैं पर फिर वहीं कचरा फेंक दिया जाता है। अब नपं की कार्रवाई से ऐसे सार्वजनिक स्थलों को कचरा से मुक्ति मिलेगी।

-----------------

वर्जन : शहर को स्वच्छ व सुंदर रखने के लिए नपं ने बेहतर पहल आरंभ की है। इस पहल में आम लोगों की भागीदारी अपेक्षित है तभी लक्ष्य पूर्ण होगा। इस व्यवस्था को सरजमीन में उतारने की तैयारी पूरी करने में नपं जुटी है। मनाही के बावजूद कचरा फेंकने वाले लोगों व वैसे स्थलों को चिन्हित कर जुर्माना की कार्रवाई शुरू की जाएगी।

---बिमल चित्रा,नगर परियोजना प्रबंधक।

Posted By: Jagran