नारायणपुर (जामताड़ा) : प्रखंड के कमलडीह के वरुण रवानी एवं मिठू तिवारी जैसे युवाओं ने किसानों के लिए प्रेरणा बने हुए है। इसका कारण है कि दोनों ने कड़ी मेहनत से गांव की एक एकड़ बंजर भूमि पर सब्जी की खेती की हरियाली लाई है। यहां की भिंडी नारायणपुर के अलावा धनबाद और गिरिडीह में बिक रही है। इन्होंने ¨भडी की फसल में रासायनिक खाद का प्रयोग नहीं किया है, केवल कंपोस्ट खाद का प्रयोग किया है।

वहीं वरुण व मिठू के के नक्शे कदम पर चलकर गांव के लीलमुनी तिवारी, अशोक रवानी, जागो रवानी आदि ने सब्जी की खेती कर रहे हैं। से भी सब्जी की खेती कर अच्छी आमदनी कर रहे हैं। कृषि से विमुख हो रहे लोगों के लिए यह किसी प्रेरणा से कम नहीं है।

वरूण ने बताया कि वे ¨भडी समेत अन्य सब्जी की खेती कर रहे हैं। कमलडीह के समीप खेती करने में पानी की कमी आड़े आ रही है। इसके लिए डीप बो¨रग की सुविधा के लिए वे प्रयास कर रहे हैं। डीप बो¨रग हुई तो वृहद पैमाने पर और बहुफसली खेती करेंगे। उन्होंने बताया कि उसने देवघर में कृषि कार्य का सात दिवसीय प्रशिक्षण भी लिया है। मनरेगा के तहत बिरसा मुंडा बागवानी से 120 पौधरोपण की स्वीकृति वरुण को मिली है। उन्होंने अपने खर्च पर कुल 400 पौधे लगाए हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश के कृषि मंत्री से मिलकर डीप बो¨रग अथवा बड़े तालाब निर्माण की मांग करेंगे ताकि कृषि में सहूलियत हो सके। इस संबंध में प्रखंड कृषि पदाधिकारी हरीपद रूइदास ने कहा कि कृषक बढि़या से कृषि कार्य करें इस दिशा में विभाग सहयोग को तत्पर है। कृषि ऋण समेत अन्य सुविधा उपलब्ध करवाई जाएगी। किसानों ने बंजर भूमि पर अच्छी खेती की है।

Posted By: Jagran