जामताड़ा : पेट्रोल-डीजल के मूल्यों में हो रही वृद्धि के विरोध में सोमवार को कांग्रेस के भारत बंद का जिले भर में मिश्रित असर रहा। अधिकांश प्रखंड मुख्यालयों में बंद का आंशिक असर रहा जबकि जिला मुख्यालय में बैंक, सरकारी प्रतिष्ठान, पेट्रोल पंप व दवा दुकानें खुली रही। निजी स्कूलों में बंद का प्रभाव रहा। सड़क पर निजी वाहन व छोटे किराये के वाहनों का गमनागमन पूर्ववत रहा। लंबी दूरी की बसें नहीं चली। कहीं से कोई अप्रिय वारदात की सूचना नहीं है। जिले भर में कांग्रेस के विधायक इरफान अंसारी समेत विभिन्न दलों के कुल 517 बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया गया। इनमें 401 पुरूष व 116 महिला बंद समर्थक शामिल थीं। जामताड़ा नगर थाना से ही कुल 263 बंद समर्थक गिरफ्तार किए गए। इनमें 94 महिलाएं थी। जैसे -जैसे बंद समर्थक सड़कों पर उतरते गए, उनकी गिरफ्तारी होती गई। फिर चार बजते ही कानूनी प्रक्रिया पूरी कर उन्हें मुक्त कर दिया गया।

-----------------

नियंत्रण कक्ष से एसपी सुजाता कर रही थी मॉनीट¨रग : एसपी (प्रभार) सुजाता कुमारी वीणापानी जिला नियंत्रण कक्ष में बैठकर पूरे जिले में बंद समर्थकों की गतिविधियों व बंदी के असर की रिपोर्ट अधीनस्थों से ले रही है। फिर मौके से बंद समर्थकों का गिरफ्तार करने का निर्देश भी दे रही थीं। उनके साथ बीडीओ अमृता प्रियंका एक्का आदि अधिकारी थे। शहर समेत पूरे जिले के संवेदनशील स्थानों में अलसुबह से ही पुलिस दंडाधिकारी के साथ चौकसी में उतर गए थे। एसडीओ उमाशंकर प्रसाद, एसडीपीओ बीएन ¨सह, इंस्पेक्टर धनंजय ¨सह, बीके ¨सह, टाउन भाना प्रभारी रवींद्र कुमार ¨सह दल बल के साथ शहर से लेकर कैंप जेल की निगरानी कर रहे थे। सूचना के साथ पहुंचकर इन अधिकारियों ने टावर चौक समेत अन्य इलाकों से बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया।

-------------------

कैंप जेल में पानी पिलाया, खिचड़ी भी परोसी गई : प्रशासन की ओर से रेडक्रास भवन को अस्थायी कैंप जेल बनाया गया था। बारह बजे यहां कांग्रेस क विधायक का जत्था से सबसे पहले पहुंचा। कैंप जेल में बंद समर्थकों के लिए बैठने के अलावा पेयजल की दुरुस्त व्यवस्था की गई थी। पर मौके पर बिजली गुल रहने की वजह से हॉल में बैठे समर्थक उमस से परेशान रहे। मौके पर एक कार्यकर्ता पर बेहोशी छाने लगी तो विधायक इरफान अंसारी ने एसडीएम से आकर शिकायत की कि यहां पंखा तक की व्यवस्था नहीं है। हवादार जगह कैंप जेल की व्यवस्था करनी चाहिए थी। ---यहां से ये हुए गिरफ्तार : टावर चौक से गिरफ्तार हुए विधाकय इरफान अंसारी, प्रभारी मनोज कुमार, जिलाध्यक्ष मुक्ता मंडल, जिप अध्यक्ष दीपिका बेसरा, अमित झा, इरशादुल अरसी, अब्दुल, मो अजहरूद्दीन समेत भारी संख्या में प्रदर्शनकारी शामिल थे। विधायक ने शहर में जुलूस निकाला था। कांग्रेस के पदधारी जीवेश्वर मिश्रा, पूर्व जिलाध्यक्ष प्रभु मंडल, करालीचरण सर्खेल, अजीत दुबे, विनोद क्षत्रीय, अशोक नायक, आदि भी बाजार बंद कराते देखे गए। सुभाष चौक से जेवीएम जिलाध्यक्ष सुनील हांसदा, अब्दुल म पवित्र आदि को वहीं पुराना कोर्ट परिसर के सामने से जेएमएम नेता रवींद्र नाथ दुबे, असित मंडल को समर्थकों के साथ पुलिस ने गिरफ्तार किया। सीपीएम बंद समर्थक में सुरजीत सिन्हा, सुरजीत मांझी, अशोक भंडारी, चंडीदास पूरी को गांधी मैदान के समीप दुकान बंद कराने के क्रम में गिरफ्तार किया गया। ---ये अधिकारी दिखे मुस्तैद : शहर समेत कैंप जेल तक एसडीओ उमाशंकर प्रसाद, एसडीपीओ बीएन ¨सह, इंस्पेक्टर धनंजय ¨सह, बीके ¨सह, टाउन भाना प्रभारी रवींद्र कुमार ¨सह दल बल के साथ के टावर चौक समेत अन्य इलाकों से बंद समर्थकों को गिरफ्तार किया। बंद समर्थकों की गिरफ्तार एक बजे तक होने के बाद शहर की शेष दकानें भी खुलने लगी। महला पुलिस बल की तैनाती भी काफी संख्या में की गई थी।

----भाजपा की नजर में बंद फ्लॉप शो : भाजपा नेता वीरेंद्र मंडल, सोमनाथ ¨सह, प्रदेश प्रतिनिधि तरुण गुप्ता, बीस सूत्री के जिला उपाध्यक्ष संतन मिश्रा, नपं के उपाध्यक्ष चंडी चरण दे, कमलेश मंडल आदि ने कहा कि बंद को जनता से पूरी तरह से नकार दिया। पूर जिले में बंदी फ्लॉप शो साबित हुआ। कांग्रेसियों ने हाइयर कर लोगों को गिरफ्तारी के लिए शहर बुलाया था। यहां तक नाबालिग बच्चों तक को प्रलोभन देकर हाथ में कांग्रेसियों ने झंडा थमा दिया था। संतन ने कहा कि जनता जनती है कि केंद्र की मोदी सरकार किस हद तक विकास कर रही है। जनता विपक्ष के झांसे में नहीं आयी। इसीलिए बंद हर क्षेत्र में निष्प्रभावी रहा।

Posted By: Jagran