जामताड़ा : मुख्य शहर समेत विभिन्न मोहल्लाओं में निजी व सरकारी आवास का निर्माण इन दिनों जोरों से चल रहा है। कहीं पीएम आवास तो कहीं निजी आवास बनाए जा रहे हैं। ऐसे में सामने की संकरी सड़कों को निर्माण स्थल की सामग्री बनाने की जगह बना दी गई है। पुराने मकानों को तोड़कर उसका मलबा भी जहां-तहां रख कर छोड़ दिया जा रहा है। नतीजतन सड़कें संकीर्ण हो गयी है। बाइक समेत अन्य वाहन चालकों के लिए गली व मोहल्ला में दुर्घटना का खतरा बढ़ता जा रहा है। सड़क किनारे रखे बालू, गिट्टी से जलनिकासी की व्यवस्था भी ध्वस्त हो रही है। इस मनमानी के खिलाफ नपं ने कार्रवाई शुरू कर दी है। दर्जन भर लोगों को नोटिस भेजा गया है। अब सामग्री जब्त करने की कार्रवाई होगी

नपं के इन इलाकों में हो रही यह मनमानी : जामताड़ा नगर पंचायत विभिन्न 18 वार्ड क्षेत्रों में विभाजित है। कई वार्ड क्षेत्र में शहरीकरण का व्यापक विस्तार हो चुका है। वहीं शेष मोहल्लों भी घनी आबादी से आच्छादित हो चुकी है। मोहल्लों से गुजरने वाली सड़कें अतिक्रमण का शिकार हो रही है। इससे बड़े वाहनों के साथ छोटे वाहनों का परिचालन भी प्रभावित हो रहा है पर इसकी सुध लेने वाला कोई नहीं है। सड़क पर रखे बालू वाहनों के गुजरने के बाद और फैल कर बिखर जाता है। इससे बाइक, साइकिल,रिक्शा चालक दुर्घटनाग्रस्त हो रहे हैं। इसी प्रकार की समस्या अजंता चौके से कायस्थपाड़ा मोड़, राजबाड़ी से राउतपाड़ा, नामुपाड़ा से कायस्थपाड़ा, नपं कार्यालय से दुलाडीह मोड़, हीरासेर, न्यू पांडेडीह, राजबाड़ी दर्जीपाड़ा, राखबन, सर्खेलडीह, पाकडीह आदि मोहल्ला में सड़कों के किनारे निर्माण सामग्री रख दी गई है।

---उदासीनता की वजह से बढ़ी मनमानी : नगर विकास विभाग से नपं को निर्देश पूर्व में प्राप्त है कि सड़क या सार्वजनिक स्थानों में निर्माण सामग्री या अन्य कार्य कर अतिक्रमण करना अपराध है। ऐसे में नगर पंचायत सामग्री जब्त करने की कार्रवाई अब करेगी। अब तक नपं की उदासीनता के कारण ही सड़क पर अतिक्रमण की समस्या बढ़ रही है।

---- ------------------

वर्जन : सड़क या सार्वजनिक स्थलों पर निर्माण सामग्री का भंडारण अतिक्रमण श्रेणी का अपराध है। इससे आम लोगों की आवाजाही बाधित होती है। ऐसी करतूत करने से नगरवासी परहेज करें। इस निमित पूर्व में अखबार के माध्यम से अपील भी की जा चुकी है। इसके बाद भी लोगों ने अपने रवैए नहीं सुधारे। इसपर दो दर्जन लोगों को नोटिस दिया गया था। नोटिस निर्गत लोगों ने अब तक जुर्माना राशि जमा करने में रुचि नहीं दिखायी। पुन: लोगों को ऐसे काम से परहेज करने का अल्टीमेटम दिया गया है। अब नपं सड़क व सार्वजनिक स्थल पर रखी सामग्री जब्त करेगी। जो अनुपयोगी सामग्री होगी उसके परिवहन में खर्च होने वाली राशि संबंधित व्यक्ति से वसूला जायेगा। रीना कुमारी,नपं अध्यक्ष।

Posted By: Jagran