जामताड़ा : दैनिक रोजगार की तलाश में यत्र-तत्र भटक रहे 1400 आदिवासी परिवार सब्जी उत्पादन कर आर्थिक रूप से समृद्ध बनेंगे। इस बाबत ट्राइबल डेवलपमेंट सोसायटी ने जामताड़ा व फतेहपुर प्रखंड के आदिवासी गांवों में पहल शुरू कर दी है। सोसायटी 25 एकड़ में टमाटर, बंधगोभी 50 एकड़, फूलगोभी 50 एकड़, आलू 50 एकड़, मिर्च 40 एकड़ मटर 20 एकड़ में आच्छादित करेगी। किसानों को बीज, उर्वरक, कीटनाशक दवा सोसायटी निश्शुल्क उपलब्ध कराएगी। इसके लिए जामताड़ा व फतेहपुर प्रखंड के आदिवासी गांवों का चयन किया जा चुका है। इसके बाद ग्राम सभा क्रियान्वयन समिति के माध्यम से इच्छुक लाभुकों की सूची व खेत का चयन कार्य पूरा किया गया। फिलहाल सोसायटी के सहयोगी स्वयं सेवी संस्था के विशेषज्ञ प्रतिनिधि किसानों के खेतों की जोताई व कीटनाशक दवा व उर्वरक का छिड़काव करवा रहे हैं। जेटीडीएस ने राष्ट्रीय बीज निगम से उन्नत किस्म वाले बीज का क्रय किया है। खेतों के क्षेत्रफल के आधार पर किसानों को बीज,उर्वरक एवं कीटनाशक दवा उपलब्ध करायी जाएगी।

जामताड़ा 30 एवं फतेहपुर के 49 गांवों में सब्जी की खेती : जेटीडीए ने वर्तमान रबी मौसम में जामताड़ा 30 एवं फतेहपुर के 49 गांव में सब्जी खेती विस्तार करने का निर्णय लिया है। सबसे अधिक क्षेत्रफल यानि 100 एकड़ में बंधगोभी व फूलगोभी लगेगी। सोसायटी ने मिट्टी जांच करवा ली है। मिट्टी जांच कराने से होने वाले लाभ की ज जानकारी दी जा रही है। बताया जा रहा है की मिट्टी जांच निश्शुल्क होती है। यह सुविधा प्रखंड व जिला स्तर पर उपलब्ध है। अवकाश के दिन छोड़ कर किसी भी दिन मिट्टी जांच करवा सकते है।

व्यवहारिक प्रशिक्षण मिलेगा : सब्जी उत्पादन को चयनित किसान व परिवार के सदस्यों को सब्जी उत्पादन का व्यवहारिक प्रशिक्षण उसके खेतों में दिया जायेगा। जेटीडीएस ने सहयोगी स्वयं सेवी संस्था के विशेषज्ञ को संबंधित गांव में पहुंचकर किसान को उसके खेतों में सब्जी उत्पादन की तकनीक की सीख देने को कहा है। विशेषज्ञ एक ही किसान के खेत में पहुंच कर पूरे गांव के किसानों को तकनीकी जानकारी देंगे। ।

--

वर्जन : सब्जी उत्पादन के जरिए किसानों की आय बढ़ाने को जेटीडीएस जिले के जामताड़ा व फतेहपुर प्रखंड में 79 आदिवासी गांवों में 235 एकड़ खेतों में टमाटर,आलू,बंधा गोभी, फुलगोभी, मिर्चा, मटर की खेती करायेगी। किसानों को सब्जी उत्पादन की बेहतर तकनीक, खाद-बीज व कीटनाशक दवा निश्शुल्क दी जाएगी। किसान व खेतों का चयन किया जा चुका है। खेतों की तैयारी भी हो चुकी है। अब बीज बोआई कार्य शुरू होना है। सब्जी खेती में 1400 से अधिक किसान लाभान्वित होंगे।

--- प्रीतम भट्टाचार्य, निरीक्षण व अनुश्रवण पदाधिकारी जेटीडीएस।

Posted By: Jagran

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप