संवाद सूत्र, गालूडीह : थाना क्षेत्र के महुलिया पंचायत के देहरी पाड़ा की 27 वर्षीय महिला झूमा देहरी ने बुधवार की देर रात घर के समीप पेड़ से दुपट्टा के सहारे फांसी लगाकर खुदकुशी करने का मामला प्रकाश में आया है। झूमा कई निजी फाइनांस कंपनी से लाखों रुपये व्यवसाय के लिए लोन लिया था। लॉकडाउन में काम नहीं मिलने के कारण ऋण की राशि का भुगतान करने में में असमर्थ थी। कंपनी के एजेट ऋण वसूली को लेकर उस पर दबाव बहना रहे थेष नतीजतन ऋण की राशि का भुगतान नहीं करने के कारण मानसिक रूप से परेशान झूमा ने आत्महत्या कर ली। घर में झूमा के पति दीपक देहरी, तीन बेटी, एक बेटा व वृद्ध ससुर भी इस घटना से अवाक हैं। सूचना मिलने पर गालूडीह पुलिस मौके पर पहुंची और मामले की जांच कर रही है। मृतका के पति दीपक देहरी ने बताया कि वह टेंट हाउस में मजदूरी करता है। परिवार का भरण-पोषण व बच्चों को अच्छी शिक्षा देने के लिए झूमा ने व्यवसाय करने के उद्देश्य से बंधन, उत्कर्ष, आशीर्वाद, ओम शांति व विलेज, इन पांच निजी फाइनांस कंपनियों से लोन लिया था। कोरोना के दौरान काम बंद था। व्यवसाय भी डूब गया। काम बंद होने के कारण परिवार के भरण-पोषण में पैसे खर्च हो गए। कंपनी के एजेट लगातार ऋण वसूली के लिए आते थे। उनके डर से वह अक्सर बाहर चली जाती थी। मंगलवार को वह अचानक घर से गायब हो गई और गुरुवार की सुबह घर के सामने पेड़ पर झूमा का लटकता शव मिला।

Edited By: Jagran