जमशेदपुर, जासं। Weight Loss Tips and Tricks : आंतरायिक उपवास यानि इंटरमिटेंट फास्टिंग (आईएफ)। यह उपवास आपके वजन को घटाने के लिए सबसे लोकप्रिय क्रिया है। इसे आप अपने जीवन शैली में शामिल कर सकते हैं। रूक-रूक कर उपवास न केवल आपके वजन को घटाने में मदद करती है बल्कि आपके विभिन्न स्वास्थ्य के स्थितियों के जोखिम को भी कम करता है। लोग समझते हैं आईएफ आसान है, लेकिन यह उतना आसान नहीं है। ऐसे कई तरीके है जिनसे यह उल्टा असर कर सकता है।

सावधानी बरतने की जरूरत

एमजीएम अस्पताल के चिकित्सक डॉ. बलराम झा के अनुसार आपको इस तरह के उपवास का पालन करते समय कई गलतियों पर ध्यान देना चाहिए। कई तरह की सावधानियां बरतनी चाहिए। इस उपवास के करने के विभिन्न तरीके हैं। यह उपवास और खाने की अवधि के बीच चक्र करता है। इस दौरान आहार का सेवन क्या के बजाय कब का ध्यान रखते हुए ग्रहण करना चाहिए। ऐसा करने पर अतिरिक्त कैलोरी की खपत को कम करने में सहायता करता है।

आहार को अनुपात में बांटे

  • 16:8 विधि - इसमें आपके खाने को आठ घंटे की अवधि तक सीमित रखना है, जिसमें आप 16 घंटे तक उपवास करते हैं।
  • ईट-स्टॉप-ईट - इस विधि में 24 घंटे के उपवास की आवश्यकता होती है और इसे सप्ताह में एक या दो बार किया जाना चाहिए।
  • 5:2 आहार - यह आहार कार्यक्रम एक व्यक्ति को सप्ताह के दो गैर-लगातार दिनों में केवल 500-600 कैलोरी खाने की अनुमति देता है, जबकि वे अन्य शेष दिनों में सामान्य रूप से खा सकते हैं।

धीमी गति से ले आहार

जब लोग किसी विशेष आहार पर स्विच करते हैं, तो वे एक सामान्य गलती करते हैं कि वे इसे जल्दी-जल्दी खाते हैं। आईएफ के साथ अक्सर लोग ऐसा ही करते हैं। आहार को धीरे-धीरे और समय अंतराल में ग्रहण करते हैं। 24 घंटे के उपवास के बाद यह सावधानी अवश्य बरतनी चाहिए।

कम समय से प्रारंभ करें उपवास, उसके बाद बढ़ाएं अवधि

सही आईएफ योजना चुनना अत्यंत महत्वपूर्ण है। यदि आप कोई ऐसा तरीका चुनते हैं जो आपके सोने के समय या आपकी रोजमर्रा की दिनचर्या के साथ अच्छी तरह से मेल नहीं खाता है, तो आप अच्छे से ज्यादा नुकसान कर सकते हैं।

उपवास शुरुआती लोगों को धीमी गति यानि कम समयावधि का करना चाहिए और 24 घंटे के उपवास में सीधे कूदना नहीं चाहिए। यदि आप इसका पालन नहीं कर सकते हैं, तो आप सामान्य से अधिक कैलोरी खा सकते हैं, जिससे अस्वास्थ्यकर वजन बढ़ सकता है।

कब और क्या खाना चाहिए पर रखना होगा ध्यान

वजन घटाने के लिए किए जा रहे उपवास के दौरान लोगों को यह पता रहता है कब खाना चाहिए, लेकिन क्या खाना चाहिए वह इस बारे में सोच नहीं पाते। वे लोग जो वास्तव में आईएफ के सहारे अपना वजन कम करना चाहते है, उन्हें प्रसंस्कृत, उच्च कैलोरी खाद्य पदार्थों का सहारा लेने के बजाय पौष्टिक, स्वस्थ भोजन खाने में शामिल होना चाहिए।

आपने अगर लंबे समय तक उपवास किया है तो आपके खाने की सामग्री में केवल फाइबर युक्त, कम कैलोरी वाले खाद्य पदार्थों का सेवन करें। जब आप ऐसा करेंगे तभी आप अपने आप में कुछ मात्रा में परिवर्तन पाएंगे।

पानी है आईएफ का महत्वपूर्ण अंग

जब आप इंटरमिटेंट फास्टिंग डाइट पर होते हैं, तो हाइड्रेटेड रहने पर कोई प्रतिबंध नहीं होता है। जब आप उपवास कर रहे हों तो पीने का पानी महत्वपूर्ण कारक है जो आपकी ऊर्जा के स्तर को ऊंचा रखता है। यदि आप पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीते हैं, तो हो सकता है कि आप आहार योजना को पूरा करने में सक्षम न हों। इससे थकान, ऐंठन, सिरदर्द और बहुत कुछ हो सकता है।

Edited By: Jitendra Singh