जमशेदपुर (जासं)। टाटा स्टील कर्मचारियों के ग्रेड रिवीजन को लेकर कंपनी प्रबंधन व टाटा वर्कर्स यूनियन के शीर्ष नेतृत्व के बीच चल रही वार्ता से जुड़ा बड़ा खुलासा हुआ है। खबर है कि ग्रेड वार्ता के दौरान यूनियन ने प्रबंधन से स्पष्ट कहा है कि वह टाटा स्टील जमशेदपुर के करीब साढ़े तेरह हजार कर्मचारियों का डीए फ्र  ज कराने का कलंक अपने सिर से लेने के लिए कतई तैयार नहीं है।

यूनियन ने यह भी कहा है कि वह मेडिकल एक्सटेंशन बंद होने के बाद पैदा हुए कर्मचारियों के गुस्से से अब भी पूरी तरह उबर नहीं पायी है लिहाजा वह अपने स्थापना के शताब्दी वर्ष पर कर्मचारियों के हित से सीधे जुड़े किसी भी मामले में पीछे हट पाने की स्थिति में नहीं है। प्रबंधन की ओर से यूनियन के समक्ष कोयलरी डिवीजन में हुए वेज रिवीजन के समझौते का प्रारूप पेश किया गया है।

टाटा स्टील में ग्रेड रिवीजन के मुदे पर अब तक चली वार्ता में यूनियन ने छह वर्ष की अवधि, न्यूनतम 18 फ  सद एमजीबी, डीए को बेसिक में मर्ज रखने के पुराने फ ार्मूले को कायम रखने को अपनी सबसे बड़ी जिम्मेदारी करार दिया है। सूत्र दावा कर रहे हैं कि प्रबंधन व यूनियन ने साथ मिलकर तय किया है कि ग्रेड रिवीजन की वार्ता से जुड़े किसी तरह की चर्चाओं को फि लहाल सार्वजनिक नहीं किया जाए,  इस बीच सूत्र दावा कर रहे हैं कि अवधि के हिसाब से प्रति वर्ष कम से कम तीन फ  सद एमजीबी तथा 2.5 फ  सद इंक्रीमेंट अपेक्षित है। डीए के पुराने फार्मूले को यथावत रखने पर पूरा जोर है।  

एनएस ग्रेड की अपेक्षाओं पर खरा उतरना चुनौती

टाटा स्टील के वेज रिवीजन पर चल रही वार्ता के दौरान एनएस ग्रेड के कर्मचारियों की अपेक्षाओं पर खरा उतरना दूसरी सबसे बड़ी चुनौती बना हुआ है। नये कर्मचारियों की वेज रिवीजन से काफ   उम्मीदें जुड़ी हुई है। अलग-अलग मंच के जरिये एनएस ग्रेड के कर्मचारियों ने अपनी मांगों से यूनियन के शीर्ष नेतृत्व को साफ -साफ अवगत करा दिया है। एनएस ग्रेड के कर्मचारियों का कहना है कि उनका वेज बेहद कम है। परिवार का भरण पोषण तक ठीक से नहीं हो पा रहा है। 

वेज पर वार्ता छह से संभव

टाटा स्टील में वेज रिवीजन की वार्ता फि लहाल बंद है। टाटा वर्कर्स यूनियन का शीर्ष नेतृत्व फि लहाल शहर से बाहर है। सूत्रों के मुताबिक ग्रेड पर प्रबंधन व यूनियन के बीच अगली बैठक छह अगस्त को हो सकती है। 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप