जमशेदपुर, जासं। जमशेदपुर के बिष्टुपुर थाना क्षेत्र की 13 साल की एक दुष्कर्म पीडि़ता के गर्भपात कराने को अदालत ने एमजीएम अस्पताल के अधीक्षक को मेडिकल बोर्ड गठित करने का आदेश दिया है। बोर्ड से मामले में मंतव्य मांगा है। साथ ही गर्भपात के बाद भ्रूण को संरक्षित कर फोरेंसिक लेबोरेटरी भेजने को कहा ताकि जरूरत पडऩे पर डीएनए टेस्ट कराया जा सके।

पीडि़ता 22 सप्ताह की गर्भवती है। वह छठीं की छात्रा है। पीडि़ता की मां ने कोर्ट में अर्जी दाखिल कर पुत्री का गर्भपात कराने की अनुमति मांगी थी। बिष्टुपुर इंस्पेक्टर राजेश प्रकाश सिन्हा के अनुसार मेडिकल बोर्ड की टीम चिकित्सीय जांच के बाद आगे की कार्रवाई करेगी।

तीन बच्चों के बाप ने बनाया था हवश का शिकार

पीडि़ता के पड़ोस में रहने वाले अधेड़ विनोद मुखी ने ही दो माह तक नाबालिग के साथ दुष्कर्म किया था। मामले का खुलासा तब हुआ जब उसके पेट में दर्द शुरु हुआ। चिकित्सीय जांच में गर्भवती होने का पता चला। 14 सितंबर को घटना की जानकारी पर परिजनों ने आरोपित की पकड़ कर पिटाई की थी। बिष्टुपुर थाना की पुलिस को सौंप दिया था। पीडि़ता की शिकायत पर आरोपित के खिलाफ पोक्सो एक्ट का मामला दर्ज किया गया। पीडि़ता आरोपित की पुत्री की सहेली है। आरोपित के दो बेटे और एक बेटी है। बेटे की शादी हो चुकी है।

क्या पता था पड़ोसी ऐसा करेगा

नाबालिग के माता-पिता और परिवार वाले बोल रहे पड़ोस में रने वाला ही बच्ची के साथ ऐसा करेगा। बाप की उम्र का है। रिश्ते की लाज नहीं रखी। बच्ची की भविष्य को सोचकर परिजनों को रात की नींद नही आती।

 

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस