जमशेदपुर, जासं। पश्चिम बंगाल से सटे होने की वजह से जमशेदपुर की दुर्गापूजा पर बंगाली संस्कृति व परंपरा का ज्यादा असर दिखता है। कास्मोपोलिटन सिटी होने की वजह से यहां सभी समुदाय के लोग इस उत्सव को धूमधाम से मनाते हैं। इस बार दैनिक जागरण ने यह जानना चाहा कि शहर के जो सेलिब्रिटी अब दूसरे शहरों में रहते हैं, वे दुर्गापूजा कैसे मना रहे हैं? जब उनसे या उनके रिश्तेदारों से बात की गई, तो पता चला कि जमशेदपुर की दुर्गापूजा नहीं देख पाने का मलाल तो है, लेकिन जहां भी हैं जमशेदपुर का साथ रहेगा। यहां प्रस्तुत है ऐसे ही कुछ सेलिब्रिटी  की दुर्गापूजा के रंग...

अमेरिका से मुंबई पहुंची तनुश्री

बॉलीवुड अभिनेत्री तनुश्री दत्ता इन दिनों अमेरिका में रह रही हैं, लेकिन दुर्गापूजा मनाने के लिए मुंबई आई हैं। तनुश्री के चाचा संजय नंदी ने बताया कि चुमकी (तनुश्री के बचपन का नाम) इस बार दुर्गापूजा में अपनी बहन व बॉलीवुड अभिनेत्री इशिता दत्ता, मां शिखा दत्ता व पिता तपन दत्ता के साथ मुंबई के पूजा पंडालों-कार्यक्रमों का लुत्फ उठाएंगी। यहां जुहू में अभिनेत्री रानी मुखर्जी, लोखंडवाला में पाश्र्वगायक अभिजीत भट्टाचार्य व निर्देशक अनुराग बासु मलाड में बड़े धूमधाम से दुर्गापूजा करते हैं। सप्तमी से नवमी से तनुश्री अपने परिवार के साथ इनके यहां भोग ग्रहण करने जाएंगी। संजय नंदी बताते हैं कि तनुश्री के माता-पिता 1992 तक मानगो के पोस्टआफिस रोड स्थित रिफ्यूजी कॉलोनी में रहते थे।

इस बार सिंगापुर में दुर्गापूजा मनाएंगी पर्वतारोही प्रेमलता अग्रवाल

सबसे अधिक उम्र में माउंट एवरेस्ट विजेता का खिताब हासिल करने वाली प्रेमलता अग्रवाल इस बार दुर्गापूजा सिंगापुर में मनाएंगी। जुगसलाई निवासी प्रेमलता ने बताया कि फिलहाल वे जमशेदपुर में हैं, लेकिन शुक्रवार को सिंगापुर रवाना हो जाएंगी। वहां उनकी बेटी प्रियांशा रहती हैं। बेटी ने बताया कि सिंगापुर में भी सार्वजनिक दुर्गापूजा का आयोजन होता है, जहां अष्टमी से दशमी तक भोग वितरण किया जाता है। बेटी ने अभी से उनके लिए भी भोग का कूपन ले लिया है। इससे पहले हर साल जमशेदपुर में ही दुर्गापूजा मनाती थीं। घर में कलश स्थापना के दिन से ही मां दुर्गा की पूजा-आराधना कर रही हैं, लेकिन बीच में ही बाहर जाने की वजह से इस बार नवरात्र का उपवास नहीं रख रही हैं।

दुर्गापूजा के दौरान बेंगलुरू में रहेंगे सौरभ तिवारी

बारीडीह निवासी क्रिकेटर सौरभ तिवारी भी इस बार शहर की दुर्गापूजा नहीं देख पाएंगे। वे बेंगलुरू में हैं, जहां विजय हजारे ट्राफी में खेल रहे हैं। सौरभ ने बताया कि बेंगलुरू में ही दुर्गापूजा का उत्सव मनाएंगे। जहां तक उन्हें जानकारी है, यहां भी एक-दो स्थानों पर सार्वजनिक रूप से दुर्गापूजा का आयोजन होता है। पूजा के मौके पर जमशेदपुर में नहीं रहने का मलाल तो रहेगा ही। बचपन में पिताजी स्कूटर से पंडाल दिखाने जाते थे। जब थोड़ा बड़े हुए तो दोस्तों के साथ देर रात तक विभिन्न इलाकों के पंडाल देखने जाते थे।

जमशेदपुर के दुर्गा पूजा बहुत मिस करती हूं : प्रिया मिश्रा

शहर के केबल टाउन की प्रिया मिश्रा फिलहाल मुंबई फिल्म नगरी में अपनी किस्मत आजमा रही है। दुर्गोत्सव के दौरान किए गए धमाल और मस्ती को वह बहुत याद करती है। प्रिया ने बताया कि पूजा के दौरान शहर में आपने परिवार और दोस्तों के साथ फिर से पंडालों के दर्शन करे इसका हर वर्ष तैयारी रहता है, लेकिन पिछले पांच सालों से वे दुर्गा पूजा के दौरान जमशेदपुर नहीं आ पा रही हैं। फिलहाल प्रिया मध्यप्रदेश के सतना शूटिंग कर रही है। उन्होंने बताया कि मुंबई में दुर्गा पूजा पर उतना रौनक नहीं रहता है। पता ही नहीं चलता की कब पूजा आया और कब बीत गया। उनके माता-पिता प्रतिवर्ष नवमी-दशमी को विंध्याचल जाते हैं। इस वर्ष भी जाएंगे। उन्होंने कहा कि मौका मिला तो वे नवमी-दशमी को माता-पिता के साथ देवी के दर्शन करने विंध्याचल पहुंचेगी। दुर्गोत्सव के दौरान समय मिलने पर जमशेदपुर भी आएंगी। अब भी उन्हें अपने दोस्तों के साथ पूजा में मस्ती करने का मन करता है।

दोस्तों और परिवार के साथ घूमने की तैयारी : विशाल

कलर्स चैनल पर डांस के दीवाने दो के विजेता तामोलिया के विशाल सोनकर दुर्गा पूजा के दौरान अपने परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ पूजा घूमेंगे। इसको लेकर विशाल जमकर तैयारी कर रहे हैं। मंगलवार को विजेता ट्रॉफी लेकर अपने घर पहुंचे विशाल बुधवार को जमकर खरीदारी की। उन्होंने बताया कि पूजा की तैयारी चल रही है। पर्व-त्योहार में अपने परिवार के साथ दिन गुजारना अच्छा लगता है। दोस्तों के साथ मौज-मस्ती के साथ परिवार के साथ पर्व मनाने का आनंद ही अलग है। इस बार दुर्गोत्सव की खुशी अधिक है। नियमित अभ्यास और देवी मां की कृपा से डांस के दीवाने सीजन दो का विजेता बनने से पूरे परिवार के सदस्यों के साथ दोस्त भी खुश है।

पुणे में ही दुर्गा पूजा मनाएगी कोमलिका बारी

विश्व चैंपियन तीरंदाज शहर की बेटी कोमलिका बारी इस बार पुणे में दुर्गोत्सव मनाएगी। कोमलिका बारी फिलहाल पुणे में आलंपिक की तैयारी कर रही है। उनके पिता धनश्याम बारी ने बताया कि दुर्गोत्सव के दौरान हम सभी उन्हें मिस करेंगे, लेकिन उनका लक्ष्य कुछ ओर है। अपने लक्ष्य की ओर बढ़ती कोमलिका पर्व-त्योहार ओर अन्य आयोजनों से फिलहाल दूर है। परिवार में उनके अलावा मां लक्ष्मी बारी और उसका भाई महेंद्र बारी हैं, जो आयोजनों पर उन्हें याद करते हैं और उनकी सफलता की कामना करते हैं।

 दुर्गापूजा में रात भर घूमती थीं बछेंद्री पाल

 टाटा स्टील के एडवेंचर फाउंडेशन से सेवानिवृत्त होने के बाद बछेंद्री पाल जमशेदपुर से चली गई हैं, लेकिन वे अब भी जमशेदपुर और टाटा स्टील से जुड़ी हैं। दुर्गापूजा की याद दिलाने पर बछेंद्री ने छूटते ही कहा 'माइंड ब्लोइंग' पूजा होती है जमशेदपुर में। मैं तो 25-26 साल जमशेदपुर में रही, कितना मजा आता था, बता नहीं सकती। मैं रात भर अपनी बहनों और उनके बच्चों के साथ घूमती थी। शहर का कोई पंडाल नहीं छोड़ती थी। आदित्यपुर से साकची, बर्मामाइंस, टेल्को, कदमा, सोनारी तक जहां चले जाओ, मेला ही मेला दिखता था। दूसरे शहरों वाले तो कल्पना भी नहीं कर सकते कि जमशेदपुर में कैसी दुर्गापूजा होती है। मेरा दावा है कि जो एक बार जमशेदपुर की दुर्गापूजा देख लेगा, दीवाना हो जाएगा। फिलहाल मैं देहरादून में हूं। लेह-लद्दाख में करीब 25 दिन रहकर लौटी हूं, जहां टाटा स्टील ने बीजू पटनायक एडवेंचर फाउंडेशन के तहत माउंटेनियरिंग एक्सपीडिशन कोर्स कराया था। अब उत्तरकाशी जा रही हूं। सचमुच, जमशेदपुर की दुर्गापूजा को बहुत मिस कर रही हूं। शहरवासियों को मेरी ओर से पूजा की बहुत-बहुत शुभकामना। 

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस