जमशेदपुर, जासं। टाटा स्टील प्रबंधन ने अपने सभी कर्मचारियों सहित देशवासियों से अपील की है कि अगर देश में स्टील की खपत बढ़ानी है तो इस धनतेरस पर सोने-चांदी के आभूषणों के साथ-साथ स्टील के सामान भी खरीदे। 

टाटा स्टील का मासिक कार्यक्रम एमडी ऑनलाइन में कंपनी के वाइस प्रेसिडेंट (मार्केटिंग एंड सेल्स) पीयूष गुप्ता ने सभी से यह अपील की है। इस दौरान उन्होंने केंद्र सरकार द्वारा जारी इस्पाती इरादा कार्यक्रम का जिक्र किया, जिसका उद्देश्य देश में स्टील की खपत बढ़ाना है। पीयूष गुप्ता ने बताया कि सितंबर माह में उन्हें उम्मीद थी कि बाजार बेहतर होगा। ऑटो सेक्टर में डिमांड बढ़ेगी तो स्टील सेक्टर भी मजबूत होगा। लेकिन ऑटो सेक्टर में अपेक्षाकृत कम मांग रही। इसका कारण उन्होंने सितंबर माह में रिकार्ड बारिश को भी माना।

ई-कॉमर्स पर विशेष ध्यान

उन्होंने बताया कि कंपनी ई-कॉमर्स बाजार पर विशेष ध्यान दे रही है। कंपनी द्वारा आशियाना सहित स्टील जंक्शन की शुरुआत की है। कोई भी चाहे तो आशियाना डॉट कॉम पर जाकर ऑनलाइन भी स्टील के सामान खरीद सकते हैं। उन्होंने बताया कि पिछले वर्ष उन्होंने एक वित्तीय वर्ष में 100 करोड़ का व्यापार किया था, लेकिन ऑनलाइन बाजार से उन्होंने मात्र छह माह में इस आंकड़े को पार कर चुके हैं। ई-कॉमर्स से वे अब छोटे खरीदार हों या उपभोक्ता, उन तक पहुंचने में कामयाब हुए हैं। उन्होंने बताया कि बारिश के बावजूद ट्यूब, वायर, टाटा स्ट्रक्चरा, प्रवेश दरवाजे और कंस्ट्रक्शन के क्षेत्र में उनकी मांग अच्छी रही है।

चीन में स्टील की 800 टन खपत

मालूम हो कि चीन जैसे विकसित देश में स्टील की खपत प्रतिवर्ष 800 मिलियन टन है जबकि भारत जैसे विकासशील देश में यह मात्र 110 एमटी के आसपास है। कार्यक्रम के दौरान टाटा स्टील के सीईओ सह एमडी टीवी नरेंद्रन बॉम्बे हाउस से वीडियो कांफ्रेंसिंग द्वारा कलिंगनगर, नोवामुंडी, कोलकाता, मुंबई, थाइलैंड, सिंगापुर, माइंस से जुड़े और कर्मचारियों के सवालों का जवाब भी दिया।

कलिंगनगर के उत्पादन में आई कमी

कार्यक्रम में वाइस प्रेसिडेंट राजीव कुमार ने बताया कि सितंबर माह में ब्लास्ट फर्नेस में लिए गए शट डाउन से उम्पादन में 20 से 25 हजार टन की कमी आई है, लेकिन उन्होंने मार्केटिंग एंड सेल्स टीम के कार्यो की सराहना की, जिसके कारण वे अपने वार्षिक उत्पादन लक्ष्य के तहत निरंतर उत्पादन कर रहे हैं। इसके लिए उन्होंने अपने ऑपरेशन, मेंटनेंस और प्लानिंग टीम का भी आभार व्यक्त किया।

प्रबंधन ने चेताया, त्योहारी सीजन में कोई भी नहीं लेगा महंगे गिफ्ट

कार्यक्रम के दौरान एथिक्स कॉज के तहत प्रबंधन ने अपने सभी अधिकारियों और कर्मचारियों को चेताया है कि त्योहारी सीजन में कोई भी किसी वेंडर, बिजनेस पार्टनर, सप्लायर से किसी तरह की सेवा, सुविधा, वाउचर, कूपन सहित महंगे गिफ्ट नहीं लेंगे और न ही उन पर ऐसी सुविधाएं देने के लिए दबाव बनाएंगे। प्रबंधन के अनुसार पिछले दिनों विश्वकर्मा पूजा के समय कुछ वेंडरों पर ऐसा दबाव बनाया गया था। ऐसे कर्मचारियों पर कंपनी प्रबंधन ने कोड ऑफ कंडक्ट के तहत कार्रवाई भी की। यदि कोई मिठाई या फल का पैकेट उपहार स्वरूप मिलता है तो उसे तत्काल खोल देखे और उसे सभी कर्मचारियों में बांट दे। लेकिन कोई महंगे उपहार दिए जाते हैं तो इसकी सूचना प्रबंधन को जरूर दें नहीं तो उन पर कार्रवाई हो सकती है।

इतिहास का हिस्सा बनकर हैं गौरवान्वित

कार्यक्रम के दौरान नोवामुंडी माइंस में कार्यरत दीपिका रजक व बिपाशा विश्वास ने अनुभव साझा किए। कहा कि उनका सपना था कि वे भी कंपनी में शिफ्ट ड्यूटी में काम करें। टाटा स्टील देश की पहली ऐसी कंपनी है जिसने महिलाओं के लिए नाइट ड्यूटी शुरू की। वे इतिहास का हिस्सा बनकर खुद को गौरान्वित महसूस कर रही हैं। उन्होंने बताया कि कंपनी में महिला कर्मचारियों के लिए बस, महिला सुरक्षाकर्मी, महिलाओं के लिए जीपीएस ट्रैकिंग डिवाइस, सीसीटीवी कैमरा, सेनेटरी वेंडिंग मशीन, महिला कैंटीन की पूरी व्यवस्था है। इस पर एमडी ने कहा कि टाटा स्टील देश की पहली कंपनी है जिसने आठ घंटे की ड्यूटी, मातृत्व अवकाश, मेडिकल सुविधा की शुरूआत की। बाद में इसे दूसरी कंपनियों ने अपने यहां प्रभावी किया।

बोनस व ग्रेड के लिए यूनियन नेतृत्व को बधाई

कार्यक्रम के दौरान एमडी टीवी नरेंद्रन ने वार्षिक बोनस व ग्रेड रिवीजन समझौते के लिए टाटा वर्कर्स यूनियन नेतृत्व को बधाई दी। उन्होंने कहा कि यूनियन नेतृत्व ने लांग टर्म और कंपनी की चुनौतियों को ध्यान में रखकर समझौता किया। इसके लिए वे बधाई के पात्र हैं।

एमडी ऑनलाइन में सवाल उठाया इसलिए कर रहे हैं प्रताडि़त

कार्यक्रम के दौरान एलडी-2 के आरके द्विवेदी ने सवाल किया कि उन्होंने पहली अगस्त को अपने क्वार्टर मरम्मत पर सवाल उठाया। इसका परिणाम है कि उन्हें गलत आरोपों के तहत फंसाया जा रहा है। द्विवेदी ने इसके लिए एमडी से अपनी बात रखने के लिए समय मांगा है। इस पर एमडी ने कहा कि वे उनके पर्सनल एक्जीक्यूटिव ऑफिसर बी सुंदर रमण से मिले। लेकिन द्विवेदी ने कहा कि वे पांच सितंबर को उनसे मिले लेकिन कोई सहायता नहीं मिली।

पावर हाउस गेट की इंट्री गेट हो बेहतर

इक्यूपमेंट मेंटनेंस सर्विसेज के संजय सिंह ने एमडी से आग्रह किया है कि जुगसलाई स्थित पावर हाउस गेट की इंट्री प्वाइंट को बेहतर किया जाए। यहां अक्सर जाम लगता है। वहीं, उन्होंने टाटा पिग्मेंट गेट के सामने स्थित खाली जगह पर पार्क का निर्माण करने की अपील की ताकि स्थानीय यहां सुबह योगा व व्यायाम कर सके। इस पर कॉरपोरेट रिलेशन चीफ रितूराज सिन्हा ने कहा कि वे इसकी स्टडी करेंगे।  

Posted By: Rakesh Ranjan

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप