जमशेदपुर, जासं। टाटा मोटर्स लिमिटेड की सहायक कंपनी, टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड (टीपीईएमएल) फोर्ड इंडिया प्राइवेट लिमिटेड (एफआईपीएल) की गुजरात के साणंद स्थित प्लांट का 725 करोड़ 70 लाख रुपये में अधिग्रहण करेगी। दोनों कंपनियों के बीच इस पर एमओयू हुआ। एमओयू के तहत तय राशि में फोर्ड इंडिया के मैन्युफैक्चरिंग यूनिट, उसमें संचालित सभी मशीनरी व उपकरण, साणंद में एफआइपीएल के वाहन निर्माण के कार्यों में लगे सभी कर्मचारियों का भी स्थानांतरण करेगी।

मैनुफैक्चरिंग प्रोजेक्ट का संचालन रहेगा जारी

हालांकि तय शर्तों के अनुसार फोर्ड इंडिया के पावर ट्रेन मैन्युफैक्चरिंग प्रोजेक्ट का संचालन का काम टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड जारी रखेगी। यदि भविष्य में कंपनी इसका संचालन बंद करती है तो यहां कार्यरत योग्य कर्मचारियों को रोजगार देगी। तय हुआ कि इस डील में सरकारी अधिकारियों से अनुमोदन व प्रथागत शर्त जरूरी होगा। हालांकि इसके लिए गुजरात सरकार के साथ टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड व फोर्ड इंडिया कंपनी के अधिकारियों के साथ 30 मई 2022 को त्रिपक्षीय वार्ता हो चुकी है।

अपनी मैन्युफैक्चरिंग क्षमता को बढ़ाने को किया गया है अधिग्रहण

टाटा मोटर्स पैसेंजर व्हीकल्स लिमिटेड और टाटा पैसेंजर इलेक्ट्रिक मोबिलिटी लिमिटेड के प्रबंध निदेशक शैलेश चंद्र का कहना है कि व्हीकल बिजनेस में पिछले कुछ वर्षों में मार्केट लीडर बनकर उभरे हैं। न्यू फार एवर प्रोडक्ट की अपनी मजबूत पाइपलाइन और इलेक्ट्रिक व्हीकल में हमने निवेश की गति को तेज किया है। अपने मैन्युफैक्चरिंग क्षमता को बढ़ाने के लिए यह अधिग्रहण किया गया है। यहां प्रतिवर्ष तीन लाख यूनिट अत्याधुनिक वाहनों का निर्माण होता था हम इसकी क्षमता को चार लाख प्रतिवर्ष तक बढ़ाएंगे। फोर्ड इंडिया का प्लांट हमारे सांणद स्थित प्लांट के काफी निकट है जिससे हमें मदद मिलेगी। यह सभी हितधारकों के लिए फायदे का सौदा है। इस अधिग्रहण से पैसेंजर व इलेक्ट्रिक व्हीकल बाजार में हमारी स्थिति और मजबूत करेगा।

Edited By: Madhukar Kumar