जमशेदपुर, जासं।  टाटा मोटर्स अस्पताल में रविवार को ओपीडी बंद रहता है, लेकिन इमरजेंसी सेवा 24 घंटे बहाल रहती है। यहां एक दर्जन से ज्यादा नर्सें मरीजों की सेवा में तत्पर रहती हैं।। यहां जनरल शिफ्ट के अलावा ए, बी व सी पाली में भी डॉक्टर मौजूद रहते हैं। चिकित्सकों के साथ नर्सें भी अपनी-अपनी ड्यूटी पर तैनात रहती हैं। 24 घंटे में अगर कोई इमरजेंसी मरीज पहुंचता है तो उसके लिए विशेषज्ञ डॉक्टर काे कॉल कार उसका इलाज कराया जाता है।

इमरजेंसी सेवा में चार डॉक्टर अस्पताल में तैनात रहते हैं। ये चारों चिकित्सक आपसी सहमति के आधार पर इमरजेंसी सेवा में अपनी-अपनी पाली में समय देते हैं। ये चार डॉक्टर राजीव वर्मा, प्रीतपाल सिंह, डा. असीम चौधरी व डा. अहमद हैं। इन चारों डॉक्टरों में अगर कोाई अनुपस्थित रहता है तो जनरल या ए पाली के डॉक्टर ही इन दोनों पाली को संभालते हैं। फिर बी व सी पाली में दो डॉक्टर तैनात रहेंगे। ऐसे में चार डॉक्टर की जगह तीन चिकित्सक ही काम संभालते हैंं। इस प्रकार आकस्मिक सेवा में भी हर समय डॉक्टर मौजूद रहते हैं। मरीजों को किसी तरह की परेशानी नहीं हो इसका पूरा ख्याल अस्पताल प्रबंधन करता है।

इस तरह बंटती है ड्यूटी

इमरजेंसी विभाग के प्रमुख ही चिकित्सकों की शिफ्टिंग पर मुहर लगाते हैं हालांकि इन चारों चिकित्सकों को हरेक पाली में काम करना है। हेड नर्स अपने विभाग में नर्सों की ड्यूटी बांटती है। एक पाली में चार नर्सों को रहना है। सब कुछ देखते हुए हेड नर्स ही ड्यूटी बांटती है। किसी त्योहार व उत्सव के मौके पर ज्यादा संख्या में अनुपस्थित रहने वाले नर्सों की व्यवस्था भी करनी है।

Edited By: Rakesh Ranjan