जमशेदपुर, जासं। कोविड -19 (Covid-19) या कोरोना (Corona) की दूसरी लहर और वैश्विक स्तर पर इलेक्ट्रिक व्हीकल (Electric Vehicle) के उत्पादन में सेमीकंडक्टर (Semiconductor) की कमी के बावजूद टाटा मोटर्स के शेयरों (Tata Motors Share) ने अब तक 177 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की है। लगातार तीन तिमाही के समेकित शुद्ध घाटे के पीछे इसकी सहायक जगुआर लैंडरोवर (Jaguar Landrover) में कमजोरी थी, लेकिन अब 2021 में कंपनी का भविष्य सुनहरा दिख रहा है।

इलेक्ट्रिक वाहन के क्षेत्र में क्रांति

टाटा मोटर्स वैश्विक स्तर पर चल रही इलेक्ट्रिक वाहन क्रांति में शामिल होने के इच्छुक निवेशकों के लिए एक शर्त सी बन गई है। यूएस आधारित टेस्ला इंक (Tesla Inc.) की सफलता और ऑटोमोबाइल (Automobile Sector) क्षेत्र के विद्युतीकरण की दिशा में भारत सरकार के जोर ने निवेशकों को उन कंपनियों की तलाश करने के लिए प्रेरित किया है, जो तकनीकी व्यवधान से लाभान्वित हो सकती हैं।

टाटा मोटर्स के कार्यकारी निदेशक गिरीश वाघ ने एक सम्मेलन में कहा कि मुझे लगता है कि कोविड की दूसरी लहर के बाद मांग में काफी सुधार हुआ है। हमने दूसरी तिमाही में सभी चार खंडों में बाजार हिस्सेदारी हासिल की है, जिसमें पिछले साल के 220 बीपीएस की कुल वृद्धि हुई है।

मॉर्गन स्टेनली ने भी माना टाटा मोटर्स ने बढ़त ले ली

टाटा मोटर्स की इलेक्ट्रिक वाहन की योजनाओं से उम्मीदों ने ऑटो कंपनी की ईवी सहायक कंपनी में टीपीजी राइज (TPG Rise) द्वारा लगभग एक बिलियन डॉलर के निवेश के पीछे यही बात है कि टाटा मोटर्स बढ़ रही है। ब्रोकरेज फर्म मॉर्गन स्टेनली (Morgon Stanley) ने भी माना है कि टीपीजी के निवेश ने भारत में ईवी की नई कहानी शुरू की और टाटा मोटर्स ने निश्चित रूप से बढ़त ले ली है।

आने वाले वर्षों में कंपनी के लिए सबसे अच्छी स्थिति में निवेशकों के मूल्य निर्धारण के साथ, 2022 उन सभी अपेक्षाओं को पूरा करने के बारे में होगा। शुरुआत में कंपनी को यह दिखाना होगा कि वह सेमीकंडक्टर की कमी को कम करके लाभ उठा रही है।

यह इसे जेएलआर के साथ-साथ घरेलू यात्री कारों की मजबूत मांग को भुनाने में सक्षम बनाएगा। इसके साथ ही मारुति सुजुकी इंडिया एसयूवी स्पेस में ब्लॉकबस्टर मॉडल लांच करने के लिए संघर्ष कर रही है। टाटा मोटर्स ने अस्थायी रूप से कई सफल लांच के साथ इस सेगमेंट पर कब्जा कर लिया है।

टाटा मोटर्स को कर्ज घटाना होगा

टाटा मोटर्स को 2023-24 तक कर्ज मुक्त होने के अपने वादे को पूरा करने के लिए आने वाली तिमाहियों में अपनी स्थिति में सुधार जारी रखना होगा। प्रतिकूल कारोबारी परिस्थितियों के बावजूद सितंबर को समाप्त हुई दूसरी तिमाही में जेएलआर द्वारा मुफ्त नकदी देने के बावजूद टाटा मोटर्स ने अभी तक कर्ज घटाने की अपनी क्षमता का प्रदर्शन नहीं किया है।

सितंबर तिमाही में कंपनी का गैर वर्तमान उधार 9.3 प्रतिशत बढ़कर एक लाख करोड़ रुपये हो गया और ऑटोमोटिव सेगमेंट का मुफ्त नकदी प्रवाह नकारात्मक 3,200 करोड़ रुपये था।अंत में कंपनी को सफल उत्पाद लांच करने के साथ अपने ईवी वादे को पूरा करना शुरू करना होगा। मॉर्गन स्टेनली ने कहा कि टाटा मोटर्स ने अगले पांच वर्षों के लिए सात और लांच की योजना बनाई है। इसका लक्ष्य अपने भारतीय पैसेंजर व्हीकल सेगमेंट में ईवी से 20 प्रतिशत योगदान करना है।

मारुति की अनिच्छा से मिली टाटा मोटर्स को बढ़त

टेस्ला के शुरुआती मुद्दों और मारुति सुजुकी (Maruti Suzuki) की अनिच्छा को देखते हुए टाटा मोटर्स ने निश्चित रूप से ईवी बाजार में बढ़त ले ली है। कंपनी ने कहा कि निवेशक और विश्लेषक इस बात को लेकर आशान्वित हैं कि 2022 में टाटा मोटर्स के स्टॉक की पेशकश करने के लिए बहुत कुछ है।

ब्रोकरेज फर्म जेफरीज ने कहा कि टाटा मोटर्स का उचित मूल्य 18 महीनों में लगभग 700 रुपये होगा। वित्तीय वर्ष 2024 तक टाटा मोटर्स का समेकित लाभ वित्त वर्ष 2011 से लगभग दोगुना हो सकता है। शुद्ध ऑटो ऋण वित्त वर्ष 2011 के स्तर से 77 प्रतिशत नीचे गिर रहा है।

Edited By: Jitendra Singh