जमशेदपुर। टाटा समूह अब भी विरासत के मुद्दों से जूझ रही है। टीसीएस को छोड़ दिया जाए तो अन्य कंपनियों की माली हालत अच्छी नहीं है।  यदि टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज की आय को बाहर रखा जाता है, तो समूह सूचीबद्ध कंपनियों ने वित्त वर्ष 2021 में लगातार तीसरे वर्ष समेकित आधार पर शुद्ध घाटा दर्ज किया। जाहिर, टाटा समूह के लिए टीसीएस अभी सोने का अंडा देने वाली मुर्गी बनी हुई है।

टीसीएस को छोड़कर, समूह की सूचीबद्ध कंपनियों ने वित्त वर्ष 2021 में 3,405 करोड़ रुपये का संयुक्त शुद्ध घाटा दर्ज किया, जो एक साल पहले 2,996 करोड़ रुपये के संयुक्त नुकसान से अधिक था। टीसीएस सहित समूह की सूचीबद्ध कंपनियों ने पिछले वित्त वर्ष में 29,025 करोड़ रुपये का संयुक्त शुद्ध लाभ दर्ज किया, जो एक साल पहले के 29,344 करोड़ रुपये से मामूली अंतर पर है।

टीसीएस के प्रदर्शन से समूह को मजबूती

नतीजतन, समूह की किस्मत टीसीएस के प्रदर्शन और नकदी प्रवाह से मजबूती से जुड़ी हुई है, जिसने वित्त वर्ष 2021 में 32, 430 करोड़ रुपये का शुद्ध लाभ दर्ज किया, जो समूह की अन्य कंपनियों की संयुक्त आय से अधिक है। वित्त वर्ष 2021 में समूह के वित्तीय अनुपात में लगातार तीसरे वर्ष सुधार हुआ। टीसीएस को छोड़कर समूह की कंपनियों, नियोजित पूंजी (आरओसीई) पर समेकित रिटर्न वित्त वर्ष 2021 में 5.4 प्रतिशत तक सुधरा, जो एक साल पहले 3.8 प्रतिशत था, लेकिन सेंसेक्स कंपनियों के आरओसीई के लगभग 11 प्रतिशत से आधे से भी कम था। टीसीएस सहित, समूह का संयुक्त आरओसीई 11.2 प्रतिशत था, जो एक साल पहले 10 प्रतिशत था।

बैलेंस शीट डिलीवरेजिंग

समूह ने एक दशक के ऋण विस्तार के बाद बैलेंस शीट के डिलीवरेजिंग के पहले संकेत दिखाए। वित्त वर्ष 2021 में समूह की संयुक्त उधारी साल-दर-साल चार प्रतिशत कम थी। यह वित्त वर्ष 2010 के बाद सबसे बड़ी गिरावट थी। गिरावट का नेतृत्व टाटा स्टील ने किया, जिसने पिछले वित्त वर्ष में लगभग 28,000 करोड़ रुपये के कर्ज को चुकाने के लिए स्टील साइकिल में तेजी का इस्तेमाल किया। वित्त वर्ष 2021 की दूसरी छमाही में स्टील की कीमतों में वैश्विक बढ़ोतरी की बदौलत टाटा स्टील ने वित्त वर्ष 2021 में राजस्व और मुनाफे में तेज उछाल दर्ज किया। नतीजतन, समूह की कंपनियों का संयुक्त सकल ऋण वित्त वर्ष 2021 के अंत में घटकर 3.35 ट्रिलियन रुपये हो गया, जो एक साल पहले 3.49 ट्रिलियन रुपये था। इक्विटी के लिए समूह का सकल ऋण वित्त वर्ष 2021 में एक साल पहले 1.27 X से बढ़कर 1.18 X हो गया, जबकि शुद्ध ऋण से इक्विटी अनुपात एक साल पहले 1.05 X से 0.91X हो गया। समूह के सकल ऋण का लगभग 90 प्रतिशत हिस्सा टाटा मोटर्स, टाटा स्टील, टाटा पावर, टीटीएमएल और इंडियन होटल्स का है। इसके विपरीत टाइटन, टाटा कंज्यूमर, वोल्टास, टाटा एलेक्सी, टाटा केमिकल्स और टाटा इन्वेस्टमेंट कॉर्प पर न्यूनतम कर्ज है या वे कर्ज मुक्त हैं।

ऑटोमोटिव और टेलीकॉम को हुआ बड़ा नुकसान

टाटा मोटर्स, इंडियन होटल्स, और सूचीबद्ध टेलीकॉम वेंचर, टाटा टेलीसर्विसेज (महाराष्ट्र) का प्रदर्शन आशा के अनुरुप नहीं है। इन तीन कंपनियों में बड़े नुकसान ने टाटा स्टील, टाटा कंज्यूमर, वोल्टास और टाटा एलेक्सी जैसी फर्मों द्वारा पोस्ट किए गए लाभ को कम कर दिया। टाटा मोटर्स ने वित्त वर्ष 2011 में अपनी ब्रिटिश सहायक जगुआर लैंड रोवर में संपत्ति राइट-डाउन के कारण 13, 452 करोड़ रुपये का शुद्ध घाटा दर्ज किया। इतने वर्षों में ऑटो प्रमुख के लिए यह तीसरा शुद्ध घाटा था।

Edited By: Jitendra Singh