जमशेदपुर : टाटा मोटर्स के बाद टाटा कमिंस का भी उत्पादन बढ़ गया है। पिछले तीन माह से यहां लगातार उत्पादन बढ़ रहा है। बीते माह की तुलना इस माह कमिंस में 500 ज्यादा इंजन बनाने का लक्ष्य है। टाटा कमिंस के जमशेदपुर व पुणा प्लांट में मिलाकर कुल 8500 इंजन बनाने का लक्ष्य रखा गया है। अभी तक तीन हजार इंजन बनाए गए हैं।

मांग मे आई अचानक वृद्धि

टाटा मोटर्स के उत्पादन में उछाल के बाद टाटा कमिंस में भी मांग बढ़ गई है। यहां तीन माह पहले 2000 से 2500 चेसिस बनते थे, जो अचानक बढ़कर 6000 तक पहुंच गया है। बीते नवंबर माह में 6000 इंजन बनाए गए थे, इस माह भी उत्पादन ही चेसिस बनने की उम्मीद है।

लक्ष्य के मुताबिक नहीं बन रहा इंजन

नवंबर माह में सात हजार इंजन बनाने का लक्ष्य रखा गया था, लेकिन समय पर रव-मटैरियल नहीं मिलने की वजह से उत्पादन उम्मीद के मुताबिक नहीं हो सका। इस माह भी दूसरे प्रांत से आने वाला रव-मेटैरियल व पार्ट्स समय पर नहीं पहुंच रहा है। सप्लाइ चेन में हा रही परेशानी को देखते हुए लक्ष्य के मुताबिक उत्पादन नहीं हो रहा है।

टाटा मोटर्स है प्रमुख ग्राहक

टाटा कमिंस के निर्मित इंजन का प्रमुख ग्राहक टाटा मोटर्स ही है। कमिंस में बने इंजन टाटा मोटर्स के जमशेदपुर प्लांट, लखनऊ आदि संयंत्रों में भेजे जाते हैं। इसके अलावा टाटा कमिंस अपने इंजन को विदेशों में भी सप्लाई करती है। कुल मिलाकर देखा जाए तो टाटा कमिंस का उत्पादन फिर से अपनी पट्टरी पर लौटने लगी है।

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप