जासं, जमशेदपुर : सिंहभूम चैंबर चुनाव को लेकर गुरुवार शाम नाटकीय मोड़ आ गया। पूर्व अध्यक्ष सुरेश सोंथालिया व निवर्तमान महासचिव भरत वसानी ने वॉक ओवर दे दिया है। सत्ता पक्ष से चुनाव लड़ने वालों की नई सूची जारी की गई है। इसमें निवर्तमान उपाध्यक्ष विजय आनंद मूनका को अध्यक्ष और मानव केडिया को महासचिव के पद पर नामित किया गया है।

दैनिक जागरण ने 15 सितंबर के अंक में यह बता दिया था कि चैंबर के पूर्व अध्यक्ष सुरेश सोंथालिया पर समाज के प्रबुद्धजनों का दबाव है। जिसमें उन्हें मूनका और मानव केडिया को वॉक ओवर देने को कहा जा रहा है। गुरुवार को दैनिक जागरण की खबर सहीं साबित हुई। गुरुवार शाम बिष्टुपुर स्थित चैंबर भवन में निवर्तमान कार्यकारिणी की बैठक हुई। इसमें तय हुआ कि निवर्तमान कमेटी के सदस्य आपस में चुनाव नहीं लड़ेंगे ताकि कमेटी से बाहर के लोगों को वापसी का मौका मिल जाएगा। तय हुआ कि सुरेश सोंथालिया और भरत वसानी चुनाव नहीं लड़ेंगे।

सत्ता पक्ष से अध्यक्ष पद पर विजय आनंद मूनका और महासचिव के पद पर मानव केडिया दावेदार होंगे। शाम सत्ता पक्ष की ओर से ऑफिस बियरर के 11 पदों पर उम्मीदवारों की घोषणा भी कर दी गई है।

बैठक में निवर्तमान अध्यक्ष अशोक भालोटिया, पूर्व अध्यक्ष सुरेश सोंथालिया, महासचिव भरत वसानी, उपाध्यक्ष विजय आनंद मूनका, मानव केडिया सहित अन्य पदाधिकारी उपस्थित थे। इस पूरे मामले में सुरेश सोंथालिया से उनके मोबाइल पर संपर्क करने का प्रयास किया गया लेकिन उनका मोबाइल स्विच ऑफ मिला।

--------

सत्ता पक्ष की ओर जारी ऑफिस बियरर के 11 पदों पर उम्मीदवारों की सूची

अध्यक्ष: विजय मूनका

महामंत्री: मानव केडिया

कोषाध्यक्ष: किशोर गोलछा

----

उपाध्यक्ष (ट्रेड एंड कॉमर्स):

नितेश धूत

सचिव: भरत मकानी

-------

उपाध्यक्ष (जनसंपर्क):

सत्यनारायण अग्रवाल

सचिव: अनिल मोदी

--------

उपाध्यक्ष (उद्योग):

महेश सोन्थलिया

सचिव: सांवर शर्मा

---

उपाध्यक्ष (टैक्स एवं फाइनेंस)

दिलीप गोलछा

सचिव: पीयूष चौधरी

------

सुरेश और मैंने बड़ा दिल दिखाते हुए आगामी चुनाव से अपना नाम वापस ले लिया है। बैठक में तय हुआ कि निवर्तमान कार्यकारिणी आपस में चुनाव नहीं लड़ेगी। इससे व्यापारियों में गलत संदेश जाएगा। नई कार्यकारिणी जो भी आएगी, उसे हमारा पूरा समर्थन रहेगा।

-भरत वसानी, निवर्तमान महासचिव

---------

चैंबर के तवे की रोटी एक तरफ से जल चुकी, पलटना जरूरी : मुकेश-संदीप

जासं, जमशेदपुर : सिंहभूम चैंबर मे तवे पर जो रोटी सेंकी जा रही है वह एक तरफ से पूरी तरह जल चुकी है, इसलिए उसे पलटना जरूरी है। यह कहना है उपाध्यक्ष पद के उम्मीदवार मुकेश मित्तल व संदीप मुरारका का।

गुरुवार को सत्ता पक्ष द्वारा ऑफिस बियरर के दावेदारों की सूची जारी करते हुए कहा गया कि चैंबर के अधिकारी पदों को सरकारी नौकरी मान चुकें हैं। जिसमें सचिव से उपाध्यक्ष पद पर प्रमोशन किया जा रहा है। कोविड 19 ने छोटे बड़े सभी उद्यमियों और व्यापारियों की कमर तोड़ दी है। उनके सामने नई-नई चुनौतियां हैं। ऐसे में सभी चैंबर सदस्यों की नजर पदाधिकारियों पर टिकी हुई है जो सरकार से बात कर उनकी समस्याओं का समाधान कराए। चैंबर जैसे संस्थान में आवश्यकता है सत्ता परिवर्तन की ताकि नए विजन के साथ नई कार्यकारिणी व्यापारियों और उद्यमियों का हित कर सकें।

Edited By: Jagran