जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। केंद्र सरकार ने स्टील सेक्टर को अगले पांच वर्षों में 6,322 करोड़ रुपये का प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेटिव (पीएलआइ) देने की घोषणा की है ताकि हाई ग्रेड स्पेशलियटी स्टील का आयात कम हो और इसका निर्माण मेक इन इंडिया के तहत हो सके। केंद्र सरकार की इस पहल को टाटा स्टील के सीईओ सह एमडी टीवी नरेंद्रन ने सराहा है।

देश में हाई स्ट्रेंथ, स्पेशियालिटी रेल्स, एलॉय स्टील, स्टील वायर और इलेक्ट्रिकल स्टील का भारी मात्रा में आयात होता है। केंद्र सरकार की योजना है कि ऐसे स्टील का यहीं निर्माण हो। इसके लिए सरकार ने निवेश को बढ़ावा देने के लिए प्रोडक्शन लिंक्ड इंसेटिव की घोषणा की है। केंद्र सरकार का मानना है कि उनकी इस घोषणा से देश-विदेश से स्टील निर्माण के क्षेत्र में 40 हजार करोड़ रुपये निवेश तो बढ़ेगा और 25 मैट्रिक टन उत्पादन क्षमता में इजाफा होगा। साथ ही पांच लाख रोजगार के नए अवसर भी सृजन होगा। गुरुवार को कैबिनेट ने इसकी मंजूरी दे दी है।

पीएलआइ से स्टील सेक्टर में निवेश को मिलेगा बढ़ावा : नरेंद्रन

टाटा स्टील के सीईओ सह एमडी टीवी नरेंद्रन ने केंद्र सरकार की इस घोषणा का स्वागत किया है। कहा कि यह सही कदम है और इससे हाई स्पेशयालिटी स्टील निर्माण में निवेश को बढ़ावा मिलेगा। साथ ही इससे भारतीय कंपनियां वैश्विक प्रतिस्पर्धाओं में भी शामिल हो पाएंगे। राष्ट्र निर्माण में प्रतिबद्ध टाटा स्टील विशेष रूप से ऑटो सेक्टर को हाई स्ट्रेंथ स्टील की डिलीवरी करने में अग्रणी रहा है। पीएलआई स्कीम हमें विशेष अवसर प्रदान कर रहा है कि हम भविष्य में अपने विस्तारीकरण कार्यों को जारी रखे। इससे वैल्यू एडेड प्रोडक्शन को भी बढ़ावा मिलेगा।

 

Edited By: Rakesh Ranjan