जासं, जमशेदपुर : परसुडीह कृषि बाजार उत्पादन समिति में पेयजल की घोर संकट है। करीब 300 गोदाम व दुकान वाले परसुडीह मंडी में ज्यादातर हैंडपंप पानी उगला करते थे। समय बीतता गया और अब आलम यह है कि गर्मी के दिनों में एक भी हैंडपप से पानी नही निकल रहा है। पयेजल की समस्या से निजात पाने के लिए व्यापारियों ने चंदाकर शनिवार को डीप बोरिग कराया है। सोमवार जल संरक्षण की मुहिम को आगे बढ़ाते हुए दैनिक जागरण की ओर से परसुडीह मंडी में व्यापारियों व मजदूरों के साथ बैठककर जल संसद कार्यक्रम का आयोजन किया। बैठक में उपस्थित व्यापारी लालू ओझा ने कहां कि सरकार को हर घर, फ्लैट से लेकर सरकारी कायालयों में वाटर हार्वेस्टिग अनिवार्य कर देना चाहिए। केरल के तर्ज पर झारखंड में भी इसको लेकर कानून को रख्त करने की आवश्यकता है ताकि लोग ना चाहते हुए भी अपने-अपने घरों में जल संरक्षण करवाएं। उन्होंने कहां कि अगर हम अब नही चेते तो अपने वाला समय इससे भी भयावह हो सकता है। उन्होंने जल संरक्षण को लेकर दैनिक जागरण की ओर से चलाएं जा रहे मुहिम की जमकर सराहना की। बैठक में शामिल आशीष शर्मा ने कहां कि करीब दस वर्ष पूर्व तक मंडी में यह स्थिति नही थी। आज पेयजल की किल्लत के कारण व्यापारी पानी खरीद कर पीने को मजबूर है। गिरधारी लाल शर्मा ने कहां कि बाजार समिति को चाहिए कि हर दुकान में वाटर हार्वेस्टिग लगवाएं ताकि आने वाले समय में जलस्तर बना रहे। बैठक में शामिल व्यापारियों ने कहां कि पहले तो वे बाजार समिति के सचिव से मिलकर जल संरक्षण करने की मांग करेंगे अगर बात नही बनी तो वे अपने स्तर से दुकानों में वाटर हार्वेस्टिग करवाएंगे। बैठक में विरेन्द्र सिंह, करण ओझा, सीपी शुक्ला, पिटू बागरी, टिकू पटवारी, विनोद वोरा, रवि शर्मा समेत अन्य उपस्थित थे।

Posted By: Jagran