जमशेदपुर, जासं। परसुडीह क्षेत्र बारीगोड़ा की चार साल की बच्ची धृतिका महतो की 29 जून को हुई मौत मामले में उसके माता-पिता की गिरफ्तारी के बाद सारा कुछ खुलकर सामने आ गया। हालांकि दंपति ने मामले में पुलिस को काफी भ्रमित करने का प्रयास किया, लेकिन कड़ाई से पूछताछ के बाद मासूम की हत्या की कहानी को बयां कर दिया।

पढ़ाई नहीं करने पर बेटी को मारा

दंपत्ति ने बताया कि बच्ची पढ़ाई-लिखाई नहीं करती थी। पढ़ने पर कोई ध्यान नहीं था। बच्ची पढ़ाई नहीं कर रही थी। इस कारण उसे डराने को 29 जून को हाथ-पैर बांध दिए थे। पिटाई भी कर दी, जिससे उसकी तबीयत बिगड़ गई। वह अचेत हो गई थी। जिसके बाद उसे इलाज के लिए सदर अस्पताल ले जा रहे थे, लेकिन रास्ते में ही बच्ची की मौत हो चुकी थी। भयभीत होकर वहां से सलगाझुरी फाटक पहुंचे और ट्रेन में बैठकर गालूडीह स्टेशन पहुंचे। वहां झाड़ियों मे बच्ची को दफना दिया। इसके बाद वापस चार जुलाई को बारीगोड़ा लौट आए।

दंपत्ति के खिलाफ हत्या का मामला दर्ज

उत्तम ने बताया उसे दो पुत्री है। छह साल की बड़ी बच्ची नानी के घर में रहती है। उत्तम मैती पटमदा के बोड़ाम क्षेत्र का निवासी है। हालांकि पुलिस को इस कहानी पर भरोसा नहीं है। वह पत्नी के साथ बारीगोड़ा निवासी राम गणेश सिंह के मकान में किराये में रह रहा था। दंपति के विरुद्ध परसुडीह थाना में सहायक अवर निरीक्षक संतोष लाल टुडू की शिकायत पर हत्या करने और हत्या का साक्ष्य छुपाने की प्राथमिकी चार जुलाई को दर्ज की गई है।

पुलिस ने शव को किया बरामद

इधर, दोनों की निशानदेही पर मंगलवार को पुलिस ने दोनों की निशानदेही पर गालूडीह स्टेशन के चंद्ररेखा-बराज रेलवे फाटक के बीच झाड़ियों के पास दफनाया गया बच्ची का शव परसुडीह थाना की पुलिस ने मंगलवार को बरामद कर लिया। पांच दिन हो जाने के कारण शव सड़-गल चुका था। इससे पहले दंपति ने पुलिस को यह बताकर भ्रमित करने का प्रयास किया था कि शव को पश्चिम बंगाल के झाड़ग्राम में दफना दिया था। बच्ची के शव को पुलिस ने पोस्टमार्टम के लिए भेज दिया है। बारीगोड़ा के स्थानीय लोगों ने बच्ची की हत्या किए जाने की शंका जताई थी। मामले से पुलिस को अवगत कराया था। दंपति को लोगों ने पकड़कर पुलिस के हवाले कर दिया था। दोनों मजदूरी करते है। चार माह से बारीगोड़ा में रह रहे थे। घर से उत्तम मैती का आधार कार्ड भी पुलिस ने बरामद किया है।

दोनों शादी-शुदा, चार माह पहले की थी दूसरी शादी

जमशेदपुर। साल की बच्ची की हत्या के मामले में गिरफ्तार उत्तम मैती और अंजना महतो शादी-शुदा पहले से शादी-शुदा है। उत्तम मैती ने पत्नी को छोड़ और अंजना ने पति को छोड़कर शादी कर ली थी। अंजना महतो को दो पुत्री है। एक साल की बच्ची धृतिका और दूसरी बच्ची पांच-छह साल की है। बड़ी बच्ची मामा के घर में रहती है। बच्ची की हत्या मामले में जो कहानी दंपति बयां कर रहे है। उस पर पुलिस भरोसा नहीं कर रही है, लेकिन बच्ची की मां अंजना महतो भी मामले में उत्तम मैती जो कुछ बोल रहा है। उसका समर्थन कर रही है। दोनों कुछ अंदरूनी बातों को छुपा रहे है। आशंका जताई जा रही कि उत्तम मैती बच्ची का सौतेला पिता था। उसने ही उसे रास्ते से हटाया।

Edited By: Madhukar Kumar