जमशेदपुर, जासं।  जमशेदपुर पूर्वी के निर्दलीय विधायक सरयू राय ने महाराष्ट्र में राष्ट्रपति शासन लगाने की मांग की है। प्रधानमंत्री को संबोधित ट्वीट में सरयू ने लिखा है कि  कंगना रनौत का घर जिस तरह से बीएमसी ने तोड़ा है, उससे यह साबित हो गया कि वहां संविधान की रक्षा करने वाला कोई नहीं है। माफियाओं और मवालियों की तूती बोल रही है। कंगना रनौत के घर तोड़ने के तरीके से साबित हो गया है कि मुंबई में जंगल राज है।

कंगना रनौत के ऑफ‍िस को बीएमसी ने ध्‍वस्‍त कर दिया है। इसके निर्माण को अवैध बताते हुए यह कार्रवाई की गई है। वैसे हाई कोर्ट ने तोड़फोड़ की कार्रवाई पर बाद में रोक लगा दी है। अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत के बाद अभिनेत्री कगना रनौत मुखर है और मायानगरी के एक खेमे को निशाने पर ले रखा है। कंगना ने दफ्तर ध्‍वस्‍त करने की कार्रवाई को फ‍िल्‍म माफ‍िया के साथ मिलकर महाराष्‍ट्र सरकार द्वारा उठाया कदम करार दिया है। कंगना के समर्थन में राकांपा नेता शरद पवार, लोजपा सांसद चिराग पासवान समेत कई नेता सामने आए हैं और बीएमसी की कार्रवाई पर सवाल खड़े किए हैं। इसी कड़ी में जमशेदपुर पूर्वी के निर्दलीय विधायक सरयू राय भी सामने आए हैं और कार्रवाई पर सवाल उठाते हुए महाराष्‍ट्र में राष्‍ट्रपति शासन की मांग रखी है। 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप

budget2021