जागरण संवाददाता, जमशेदपुर : जिला प्रशासन दाल, चावल और आलू की कीमतों लगाम लगा कर जनता को राहत देने जा रहा है। एसडीओ सूरज कुमार ने गुरुवार को सिंहभूम चैंबर ऑफ कामर्स और जमशेदपुर चैंबर ऑफ कामर्स के साथ बैठक कर इसकी रणनीति तैयार की। दाल की बिक्री के लिए सुविधा केंद्र खोलने से लेकर अन्य सभी तरीकों पर चर्चा हुई। प्रशासन अरहर दाल की कीमत को 115-120 के आसपास ही रखना चाहता है। कारोबारियों को दाल, चावल और आलू की बिक्री पर कम मुनाफा लेने को भी राजी किया जा सकता है। शुक्रवार को चार बजे परसुडीह बाजार समिति में कारोबारियों के साथ बैठक कर प्लान को अंतिम रूप दिया जाएगा।

कारोबारियों के साथ बाजार समिति में होने वाली बैठक में तय किया जाएगा कि शहर में दाल, चावल और आलू की कीमतें किस तरह नियंत्रित की जाएं। तय हुआ है कि सुविधा केंद्र खोले जाएंगे और इन आवश्यक वस्तुओं को लागत से थोड़ा ज्यादा मूल्य पर बेचने को कारोबारियों को राजी किया जाएगा। गुरुवार को एसडीओ की अध्यक्षता में हुई बैठक शुक्रवार की बैठक की तैयारी के क्रम में बुलाई गई थी। बैठक के पांच बिंदु थे। इसमें इस बात पर मंथन हुआ कि दाल की बढ़ती कीमतों के पीछे मुनाफा और जमाखोरी तो नहीं। एसडीओ ने सभी कारोबारियों को समझाया कि वह सरकार द्वारा स्वीकृत भंडारण क्षमता से ज्यादा दाल व खाद्य तेल नहीं रखें। वरना, पकड़े जाने पर सख्त कार्रवाई होगी। छापामारी चल रही है। एसडीओ इस मौके पर भी अतिक्रमण की बात करना नहीं भूले। उन्होंने कारोबारियों को चेतावनी दी कि दुकान की हद के बाहर सामान सजाना भूल जाएं। वह बोले कि प्रशासन बराबर अभियान चला कर जुर्माना वसूली करता रहेगा। बैठक में सिंहभूम चैंबर ऑफ कामर्स के प्रभाकर सिंह, जमशेदपुर चैंबर ऑफ कामर्स के मोहन लाल अग्रवाल के अलावा हरविंदर सिंह मंटू, व्यापार मंडल के दीपक भालोटिया आदि शामिल थे।

-----------------------

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस