जेएनएन, जमशेदपुर : सरायकेला-खरसावां जिले के चांडिल अनुमंडल क्षेत्र के उरमाल गांव की मनीषा ¨सह मुंडा व उनका पूरा परिवार सहिया मनीता देवी को भगवान मानता है। मनीषा सिंह कहती हैं कि गोद में गूंज रही नवजात की किलकारी के पीछे मनीता देवी का ही हाथ है। उन्होंने ही सेवा और जज्बे से इस नवजात की जान बचाई। अगर वह आधी रात मेरे घर नहीं आतीं। नवजात को नहीं देखतीं तो शायद हमलोग दफना चुके होते। मनीषा सिंह मुंडा ने कहा कि सहिया ग्रामीण क्षेत्र के गरीबों के लिए वरदान हैं। विशेषकर गर्भवती के लिए संकट के समय सर्वप्रथम वही मददगार होती हैं। अच्छे व बुरे की जानकारी देकर जान बचाती हैं। मनीषा सिंह मुंडा ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सीधी बात में सहिया मनीता की सराहना कर सभी सहिया को सम्मान दिया है। इससे सहिया का हौसला बढ़ेगा। वह और उत्साहित होकर गर्भवती की सेवा करेंगी।

----

मनीता जैसी पत्‍‌नी हर

जन्म में मिले : विनय

उधर, पीएम नरेंद्र मोदी द्वारा सराहे जाने के बाद सहिया मनीता देवी के पति बेहद खुश हैं। पूरे परिवार में उत्साह का माहौल है। पति विनय लोहरा ने कहा कि मनीता उनके लिए देवी के समान है। उसकी जैसी पत्‍‌नी हर जन्म में मिले। वह जिस जज्बे के साथ समाज की सेवा करती है, उससे मैं काफी प्रभावित रहता हूं। चाहता हूं कि भविष्य में भी बढ़ चढ़कर गर्भवती की सेवा करती रहे। मालूम हो कि मनीता देवी के पति विनय आसपास की कंपनियों में दैनिक मजदूरी कर घर परिवार चलाते हैं। आर्थिक स्थिति ठीक नहीं है। बावजूद पत्‍‌नी के कामकाज से खुश रहते हैं। मनीता का सहिया होना उनके लिए कभी बाधक नहीं रहा।

Posted By: Jagran