रांची/ जमशेदपुर, जेएनएन। कोल्हान प्रमंडल के आयुक्त विजय कुमार सिंह के खिलाफ अनियमितता के एक मामले में विधि सम्मत कार्रवाई की अनुशंसा की गई है। यह अनुशंसा लोकायुक्त जस्टिस डीएन उपाध्याय ने कार्मिक प्रशासनिक सुधार एवं राजभाषा विभाग के अपर मुख्य सचिव से की है। आयुक्त विजय कुमार सिंह पर सहयोग समितियों के निबंधक पद रहते हुए क्षेत्राधिकार से बाहर जाकर अनियमितता करने का आरोप है। इसकी प्रारंभिक जांच में पुष्टि हो चुकी है। 

आयुक्त पर जांच में यह पुष्टि हुई है कि जब वे सहयोग समितियों के निबंधक थे, तब उन्होंने क्षेत्राधिकार से बाहर जाकर पक्षपातपूर्ण तरीके से कोडरमा के जयनगर प्रखंड स्थित डंडाडीह मत्स्यजीवी स्वावलंबी सहयोग समिति लिमिटेड को लाभ पहुंचाया। इसके लिए उन्होंने जयनगर प्रखंड के डंडाडीह पंचायत स्थित तालाब गोहिया आहर, फकरेडीह आहर, ठाकुर आहर की बंदोबस्ती का निर्देश दिया। इतना ही नहीं, उन्होंने बिरसा मत्स्यजीवी स्वावलंबी सहयोगी सहयोग लिमिटेड को भी लाभ पहुंचाने के लिए गोडरा आहर की बंदोबस्ती का निर्देश दिया। 

प्रक्रिया का नहीं किया पालन

जांच में कहा गया है कि अगर तत्कालीन निबंधक विजय कुमार सिंह को आदेश देना ही था तो वे प्रक्रिया का पालन करते। वे अपने अधीन कार्यरत पदाधिकारी को निर्धारित प्रक्रिया के अंतर्गत कार्रवाई करने के लिए निदेशित करते। लेकिन, उन्होंने ऐसा नहीं किया। आरोप है कि अधिकार क्षेत्र से बाहर जाकर सीधे तौर पर पक्षपातपूर्ण तरीके से जिला मत्स्य पदाधिकारी कोडरमा को उपरोक्त तालाब-आहर की बंदोबस्ती का आदेश दे दिया। 

रफीक आलम ने की थी शिकायत

कोडरमा के जयनगर प्रखंड मत्स्य जीवी सहयोग समिति लिमिटेड के सचिव मोहम्मद रफीक आलम ने लोकायुक्त कार्यालय में शिकायत की थी। उन्होंने तत्कालीन निबंधक पर मनमाने तरीके से वर्ष 2017-18 में अनियमितता का आरोप लगाया था। लोकायुक्त ने पूरे मामले की जांच कराई, जिसके बाद यह अनियमितता सामने आई है।

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

Posted By: Rakesh Ranjan

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस