जमशेदपुर, जासं। आर्थिक मंदी का असर अब टाटा कमिंस जमशेदपुर प्लांट के नीम (नेशनल एंप्लॉयबिलिटी इंहासमेंट मिशन) प्रशिक्षुओं पर दिखने लगा है। पहले कंपनी के ठेका मजदूरों को काम से बैठाया गया और अब प्रशिक्षुओं पर भी गाज गिरने लगी है। यहां प्रशिक्षुओं को काम से बैठाने का सिलसिला जारी है। 

पहले करीब 250 प्रशिक्षुओं को काम से बैठाया गया था और शेष 150 प्रशिक्षुओं को काम से बैठाने के लिए पत्र थमा दिया गया है। उत्पादन कम होने की वजह से रोटेशन के आधार पर इन्हें बैठाया जा रहा है। आगामी छह सितंबर तक प्रशिक्षण से बैठा दिया जाएगा। यह जानकारी नहीं दी गई है की इन्हें फिर दोबारा कब फि र बुलाया जाएगा। यानी कम उत्पादन की मार केवल स्थायी-अस्थायी नहीं बल्कि ठेका मजदूर व प्रशिक्षु भी ङोलने लगे हैं।

केंद्र की मोदी सरकार द्वारा औद्योगिक स्किल डेवलपमेंट के तहत नीम प्रशिक्षुओं को विभिन्न कंपनियों में बहाली ली गई थी। कार्य के बदले इन्हें स्टाइपेंड दिया जाता है जिससे घर चलाने में उन्हें आर्थिक सहायता मिल रही थी। अब इनकी भी आर्थिक संतुलन बिगड़ जाएगी।

12 को खुलेगी टाटा कमिंस

टाटा कमिंस में शनिवार को फ्लेक्सी ऑफ रहा। कर्मचारियों को आवश्यकतानुसार ड्यूटी पर बुलाया गया। कंपनी के कुछ विभागों में काम हुआ। 11 अगस्त रविवार को सार्वजनिक अवकाश रहने के कारण कंपनी 12 अगस्त को खुलेगी। शुक्रवार को टाटा मोटर्स, कमिंस और गोविंदपुर स्थित स्टील स्टिप्स व्हीलस में ब्लॉक- क्लोजर होने से उत्पादन पूरी तरह से ठप रहा था। सोमवार 12 अगस्त को टाटा मोटर्स और टाटा कमिंस में कामकाज शुरू होगा, जबकि स्टील स्टिप्स व्हील्स कंपनी 17 अगस्त को खुलेगी।

 

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप