जमशेदपुर, जागरण संवाददाता। टाटा मोटर्स के शेयरों में बीते एक साल में अच्छी तेजी देखने को मिल रही है। कंपनी की शेयरों की वजह से निवेशकों की रकम दोगुना से ज्यादा बढ़ गई है। आज भी कंपनी में डेढ़ प्रतिशत से ज्यादा का इजाफा देखने को मिला है। रतन टाटा की टाटा मोटर्स मौजूदा समय में सबसे कमाऊ कंपनियों में से एक है।

हाल ही में अमेरिकी कंपनी फोर्ड ने भारत से अपना कारोबार बंद करने का ऐलान किया है।

फोर्ड ने किया था अपमानित

कभी इसी फोर्ड के पास रतन टाटा खुद अपनी टाटा मोटर्स को बेचने के लिए यूएस गए थे। तब उन्हें फोर्ड के मालिक से काफी बदसलूकी झेलनी पड़ी थी। तब वो कंपनी को बिना बेचे वापस आ गए थे। उसके बाद रतन टाटा ने टाटा मोटर्स को नए मुकाम पर ले जाने के लिए काफी मेहनत की। अब वो इलेक्ट्रिकल व्हीकल सेगमेंट की ओर बढ़ रहे हैं। वहीं दूसरी ओर कंपनी के निवेशकों को भी शेयर बाजार के माध्यम से काफी मुनाफा कमाकर दे रही है।

0 साल में दोगुना की कमाई

टाटा मोटर्स ने 10 साल में दोगुना से ज्यादा कमाई कराया। कभी टाटा मोटर्स की हालत काफी पतली थी। अब कंपनी की स्थिति काफी मजबूत हो गई है। बीते 10 सालों की बात करें तो कंपनी ने निवेशकों को दोगुना से ज्यादा कमाई कराई है। आज बाजार बंद होने तक कंपनी का शेयर 1.64 प्रतिशत की तेजी के साथ 306.05 रुपये पर बंद हुआ। जबकि 14 सितंबर 2011 को कंपनी का शेयर 140.99 रुपये पर बंद हुआ था। इस दौरान कंपनी ने निवेशकों को 117 प्रतिशत का रिटर्न दिया है।

एक लाख रुपये के 2.17 लाख रुपये

यदि किसी निवेशक ने टाटा मोटर्स के शेयरों में 140.99 रुपये के हिसाब से एक लाख रुपये का निवेश किया होता तो निवेशक को 709 शेयर मिले होते। जिनकी वैल्यू आज 306.05 रुपये के हिसाब से 2.17 लाख रुपये हो जाती। जानकारों की मानें तो आने वाले दिनों में इनकी वैल्यू में और इजाफा देखने को मिल सकता है। टाटा मोटर्स के शेयर्स जून के महीने में ऑल टाइम हाई पर गए थे। उससे पहले पिछले साल सितंबर में कंपनी के शेयरों में गिरावट देखने को मिली थी।

एक लाख करोड़ रुपये की है कंपनी

टाटा मोटर्स का मार्केट कैप एक लाख करोड़ रुपये से ज्यादा का है। मौजूद समय में कंपनी का मार्केट कैप 10161802 लाख करोड़ रुपये है। आज कंपनी के शेयरों में 1.64 प्रतिशत की तेजी देखने को मिली है। जिसकी वजह से कंपनी की मार्केट कैप में भी इजाफा हुआ है। जिसकी वजह से कंपनी का मार्केट कैप एक लाख करोड़ रुपये के पार चला गया है।

Edited By: Jitendra Singh