जमशेदपुर-भारत में रमजान 12 के बजाय 13 अप्रैल यानि मंगलवार को होगा। 13 मई बुधवार को यह समाप्त होगा। इसी माह में पवित्र ईद-उल-फितर का त्योहार भी मनाया जाता है। रमजान को लेकर जमशेदपुर के मुस्लिम समुदाय में खासा उत्साह देखा जा रहा है। इस्लामिक मान्यताओं के अनुसार मोहम्मद साहब को रमजान के महीने में पवित्र ग्रंथ कुरान शरीफ का ज्ञान मिला था। तभी से इस महीने को रमजान के तौयर पर मनाया जाता है। इस्लामी कैलेंडर का यह नौवां महीना होता है। इस महीने को उपवास व प्रार्थना के लिए सबसे पवित्र महीना माना जाता है। इस दौरान सूर्य उगने से पहले सेहरी खाने की परंपरा है। उसके बाद दिन भर उपवास रखा जाता है। रात में इफ्तार के साथ उपवास तोड़ा जाता है।

मुस्लिम समुदाय के लोग रमजान के पूरे महीने अल्लाह की इबादत करते हैं। हर साल चांद का दीदार करने के साथ ही रमजान की शु रमजान के पूरे महीने अल्लाह की इबादत (Worship) करते हैं, नमाज अदा करते हैं और क़ुरआन की शुरुआत होती है। सऊदी अरब में रविवार 11 अप्रैल को चांद का दीदार नहीं हो पाया। ऐसे में अब पहला रोजा 13 अप्रैल को होगा।  

दिनांक   सहरी (सुबह)   इफ्तार (शाम)

14 अप्रैल 04:13 06:21

15 अप्रैल 4:12 06:21

16 अप्रैल 04:11 06:22

17 अप्रैल 04:10 06:22

18 अप्रैल 04:09 06:23

19 अप्रैल 04:08 06:23

20 अप्रैल 04:07 06:24

21 अप्रैल 04:06 06:24

22 अप्रैल 04:05 06:25

23 अप्रैल 04:04 06:25

24 अप्रैल 04:03 06:26

25 अप्रैल 04:02 06:26

26 अप्रैल 04:01 06:27

27 अप्रैल 04:00 06:28

28 अप्रैल 03:59 06:28

29 अप्रैल 03:58 06:29

30 अप्रैल 03:57 06:29

01 मई 03:56 06:30

02 मई 03:55 06:30

03 मई 03:54 06:31

04 मई 03:53 06:31

05 मई 03:52 06:32

06 मई 03:51 06:32

07 मई 03:50 06:33

08 मई 03:49 06:34

09 मई 03:48 06:34

10 मई 03:47 06:35

11 मई 03:46 06:35

12 मई 03:45 06:36

13 मई 03:44 06:36

 

शॉर्ट मे जानें सभी बड़ी खबरें और पायें ई-पेपर,ऑडियो न्यूज़,और अन्य सर्विस, डाउनलोड जागरण ऐप