जमशेदपुर, जासं।  Jharkhand Assembly Election 2019  झारखंड विधानसभा चुनाव में पहली बार लाचार दिव्यांग व 80 वर्ष से अधिक उम्र के मतदाताओं को नई सुविधा मिलने जा रही है। इस बार उन्हें वोट डालने के लिए मतदान केंद्र (बूथ) तक आना अनिवार्य नहीं होगा। यही नहीं, उन्हें 22 नवंबर से तीन दिसंबर तक मतदान करने की सुविधा मिलेगी, जबकि पूर्वी सिंहभूम समेत पूरे कोल्हान में आम लोग सात दिसंबर को मतदान करेंगे।

जिला निर्वाचन पदाधिकारी सह उपायुक्त रविशंकर शुक्ला ने बताया कि भारत निर्वाचन आयोग इस नई व्यवस्था को पहली बार झारखंड से ही शुरू कर रही है। निर्वाचन आयोग द्वारा जारी दिशा-निर्देश में दिव्यांग मतदाता (पीडब्ल्यूडी वोटर या पर्सन्स विथ डिसएबिलिटीज) के साथ-साथ 80 वर्ष से अधिक उम्र के वैसे बुजुर्ग जो चलने-फिरने में असमर्थ हैं, उन्हें इस तरह की सुविधा दी जा रही है। इसके लिए बीएलओ (बूथ लेवल आफिसर) को निर्देश दिया गया कि वे ऐसे मतदाताओं को चिह्नित कर 11 से 16 नवंबर तक उनसे 'फार्म 12-डी' के माध्यम से आवेदन प्राप्त कर लेना है।

बीएलओ को दे सकते आवेदन

ऐसे लाचार मतदाताओं के परिजन भी क्षेत्र के बीएलओ से संपर्क कर आवेदन जमा कर सकते हैं। 16 नवंबर तक जिन लाचार लोगों को आवेदन मिल जाएगा, उनके घर पोलिंग टीम भेजने की व्यवस्था की जाएगी। 21 नवंबर को उम्मीदवारों की नाम वापसी की तिथि समाप्त होने के दूसरे दिन से पोलिंग टीम इन विशेष मतदाताओं के घर जाएगी। यदि पहली बार घर पर मतदाता नहीं मिले, तो उनके घर के दरवाजे पर सूचना चिपकाकर अगली तिथि बताई जाएगी। उस दिन भी यदि बुजुर्ग या दिव्यांग घर पर नहीं मिली तो तीसरी बार टीम नहीं जाएगी। उन्हें सात दिसंबर को बूथ पर आकर मतदान करना होगा। इसके लिए वाहन की व्यवस्था पूर्व की भांति की जाएगी। उपायुक्त ने कहा कि यदि 80 वर्ष से अधिक के कोई बुजुर्ग बूथ पर आकर ही मतदान करना चाहते हैं, तो कर सकते हैं। कुल मिलाकर यह सुविधा उन्हीं मतदाताओं को दी जाएगी, जो वास्तविक रूप से बूथ तक आने में असमर्थ होंगे।

डाउनलोड करें जागरण एप और न्यूज़ जगत की सभी खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस