गुरदीप राज, जमशेदपुर :

अगर आप डाकघर से पोस्टल ऑर्डर खरीदने जा रहे हैं तो दोगुना कमीशन देने को तैयार रहें। शहर के डाकघरों में पोस्टल ऑर्डर की भारी कमी है। 10 डाकघर घूमने के बाद पोस्टल ऑर्डर मिल जाए तो अपने आप को भाग्यशाली समझिए। लेकिन, जब कमीशन देने की बारी आती है तो 50 पैसे प्रति पोस्टल आर्डर के बदले एक रुपये वसूला जा रहा है। अवैध रूप से वसूला जा रहा यह कमीशन आखिर किसकी जेब में जा रहा है, यह जांच का विषय है। पोस्टल ऑर्डर की कमी होने के कारण लोग अवैध वसूली के बावजूद भी दोगुना कमीशन देकर पोस्टल आर्डर खरीद रहे हैं।

ढूंढ़े नहीं मिल रहे 10 व 20 रुपये के पोस्टल आर्डर

डाकघरों में 10 व 20 रुपये के पोस्टल ऑर्डर आते ही समाप्त हो जा रहे हैं। ये पोस्टल ऑर्डर कैसे और कौन खरीद रहा है, इसकी भी पड़ताल की जरूरत है। डाकघर सूत्रों की माने तो 10 व 20 रुपये के पोस्टल ऑर्डर डाककर्मी ही ब्लैक कर रहे हैं। वहीं पांच रुपये के पोस्टल ऑर्डर किसी-किसी डाकघर में ही मिल रहे हैं। बर्मामाइंस स्थित डाकघर में 10 व 20 रुपये के पोस्टल ऑर्डर कभी रहते ही नहीं।

50 पैसे की जगह एक रुपये लिया जा रहा कमीशन

बर्मामाइंस डाकघर में पांच रुपये का पोस्टल ऑर्डर खरीदने पर 50 पैसे की जगह एक रुपये कमीशन लिया जा रहा है। अगर कोई ग्राहक एक रुपया कमीशन नहीं देने की बात कहता है तो उसे पोस्टल ऑर्डर दिया ही नहीं जाता। बर्मामाइंस डाकघर में शुक्रवार की सुबह करीब एक से डेढ़ बजे के बीच एक सज्जन पोस्टल ऑर्डर लेने पहुंचे। उन्होंने पहले 10 रुपये का पोस्टल ऑर्डर मांगा तो डाककर्मी ने कहा कि नहीं है। फिर उन्होंने 10 पोस्टल ऑर्डर पांच रुपये के मांगे तो डाककर्मी ने 60 रुपये की मांग की। जब पोस्टल ऑर्डर लेने वाले युवक ने इसका विरोध किया और कहा कि 50 पैसे की जगह एक रुपया कमीशन क्यों, तो डाककर्मी ने उन्हें पोस्टल ऑर्डर देने से इंकार कर दिया। जिसके बाद मजबूरी में युवक ने डाककर्मी को 60 रुपये दिए। इस संबंध में वरीय डाक अधीक्षक कोल्हान विमल किशोर से बात करने की कोशिश की गई तो उनका मोबाइल स्वीच आफ बताने लगा।

Posted By: Jagran