जागरण संवाददाता, सरायकेला। सरकार ने इसी उम्मीद के साथ प्रधानमंत्री आवास योजना शुरू की थी कि वर्ष 2022 तक प्रत्येक गरीब व पात्र व्यक्ति को रहने के लिए पक्का आशियाना हो लेकिन सरकारी पदाधिकारियों की लापरवाही के कारण आज भी गरीब पक्का मकान से कोसों दूर है। जबकि धनाढ्य संपन्न परिवार के लोगों को आसानी से पीएम आवास योजना का लाभ मिल रहा है। जी हां, सरायकेला नगर पंचायत क्षेत्र का यही हाल है।

यहां प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तृतीय घटक भागीदारी में किफायती आवास के आवंटन में व्यापक गड़बड़झाला होने की सूचना मिली है जबकि आज भी गरीब व पात्र व्यक्ति योजना का लाभ लेने के लिए नगर पंचायत के दफ्तर का चक्कर काटने को विवश हैं। प्रधानमंत्री आवास योजना शहरी के तृतीय घटक भागीदारी में किफायती आवास योजना के तहत नोरोडीह में 60 आवास फ्लैट का निर्माण हो रहा है जिसमें 38 आवास का आवंटन पूर्व में हो चुका है और शुक्रवार को टाउन हॉल में 22 लाभुकों का लॉटरी के माध्यम से आवास आवंटन किया गया। इन 22 लाभुकों में कई आलीशान मकान वाले हैं तो कई सरकारी कर्मचारी के रिश्तेदार हैं तो कई बिजनेसमैन है। कई चार पहिया वाहन के मालिक है। इतना ही नहीं, इन योजना में कई ऐसे लाभुकों को लाभ दिया गया है जो नगर पंचायत क्षेत्र के निवासी ही नहीं हैं।

इस प्रकार की गयी अनियमितता

22 आवास के आवंटन के लिए केवल 22 लाभुकों की ही सूची बनाकर उन्हें बुलाया गया। इसके बावजूद जनप्रतिनिधियों व पदाधिकारियों की नजर में पाक साफ बनने के लिए 22 लाभुकों की लॉटरी निकाली गइ। एक- एक कर 22 लाटरी की गइ। लॉटरी में 22 लाभुक ही थे तो ऐसे में लॉटरी का क्या औचित्य था।

लाभुकों से हुई है मोटी डील

सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार इन सभी 22 अयोग्य लाभुकों को आवास उपलब्ध कराने के नाम पर नगर के एक सिटी मैनेजर ने मोटी डील की है जिसमें आवंटन से पूर्व 10 से 20 प्रतिशत राशि लिए जाने की बात सामने आ रही है जबकि शेष राशि को आवंटन के बाद लिए जाने की बात है।

ये कहती नगर पंचायत अध्यक्ष

पूरे मामले पर नगर पंचायत की अध्यक्ष मिनाक्षी पट्टनायक ने बताया कि आवास आवंटन के मामले को लेकर मैनें पूर्व में ही सिटी मैनेजन सुमित सुमन को आदेश दिया था कि आवंटन मामले में अनियमितता ना हो। अगर अनियमितता हुई है तो पूरे मामले की जांच कर अयोग्य लोगों का आवेदन रद्द किया जाएगा। साथ ही दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी।

ये कहते कार्यपालक पदाधिकारी

नगर पंचायत के कार्यपालक पदाधिकारी राजीव रंजन ने कहा कि मानक के विपरीत आवास का आवंटन हुआ है तो संबंधित पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी। सभी लाभुकों ने शपथ पत्र भरकर कार्यालय में जमा किया है कि वे योजना के योग्य लाभुक हैं और सभी मानक को पूरा करते हैं। इसके वावजूद जांच में कोई अयोग्य निकलते हैं तो उनका आवंटन रद्द कर उनपर प्राथमिकी दर्ज की जाएगी।

ये कहते सिटी मैनेजर

नगर के सिटी मैनेजर सुमित सुमन ने बताया सभी 22 लाभुक जिन्हें आवास आवंटन किया गया है वे योग्य लाभुक हैं और सभी का दस्तावेज कार्यालय में जमा है।

इन 22 लाभुकों के नाम हुआ है आवास का आवंटन

अनिता देवी, अन्नु, बबलू सिंह मोदक, दीपक महतो, दीपक चंद्र नायक, गीता भोल, हेमंत कुमार, कमलेश प्रजापति, कृष्णा मोदक, लाकी देवी पति सुदीप साहू, मोनिका महतो पति ह्दयानंद महतो, निर्मलेंदु दास पिता महादेव दास, पोगारो गागराई, प्रकाश ज्योतिषी, प्रियरंजन साहू, संजीव कुमार, संजु महतो, शांतिरानी पडिहारी, मंजु सिंह पति सुभाष सिंह, अनिता देवी पति अश्विनी नाग, बलाल हुसैन, इश्तियाक अहमद।

Edited By: Rakesh Ranjan