जमशेदपुर ( जागरण संवाददाता)। वर्तमान पीढ़ी को यह जानना चाहिए कि इस अनोखे व्यक्तित्व के बारे में। उन्हें पढऩा चाहिए। जितना लोग उनके बारे में जानेंगे, यह भी समझेंगे कि गांधी जी कितने महान थे। उनकी प्रासंगिकता कभी कम नहीं हो सकती। यह कहना है आदित्यपुर निवासी पूनम सिन्हा का।

पूनम को गांधी के तरह-तरह के चित्र बनाने का शौक है। गांधी जी की तरह-तरह की भाव-भंगिमाओं वाली तस्वीर तैयार कर चुकी हैं और कुछ अभी तैयार हर रही हैं। बताती हैं कि गृहिणी होने के बावजूद खाली बैठना पसंद नहीं। इसलिए स्पोर्ट्स एडवेंचर से जुड़ी रही।

बछेंद्री पाल के साथ दलमा, तुमुंग, उत्तरकाशी में ट्रैकिंग अभियान दल की सदस्य रही। अब बछेंद्री पाल सेवानिवृत्त हो गई हैं। कुछ करते रहना चाहिए, यह सोच थी।

गांधी साहित्य पढऩे से उनके विचारों ने इतना प्रभावित किया कि उनके तरह-तरह के चित्र बनाने का शौक बन गया। शुरुआत नोटों पर छपे गांधी जी के फोटो जैसा चित्र बनाने से हुई। अबतक उनके कई चित्र, पोट्रेट बना चुकी हैं। आयल पेंटिंग से पोट्रेट बनाया तो सिर्फ पेंसिल का प्रयोग कर रेखाचित्र से चित्र उकेर अपनी कलात्मक श्रद्धांजलि दी। यह सिलसिला अभी चल ही रहा है। 

Posted By: Vikas Srivastava

अब खबरों के साथ पायें जॉब अलर्ट, जोक्स, शायरी, रेडियो और अन्य सर्विस, डाउनलोड करें जागरण एप